• shareIcon

भूलकर भी नहीं छूने चाहिए शरीर के ये 5 अंग, आस-पास फैलती है कई बीमारियां

तन मन By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 08, 2019
भूलकर भी नहीं छूने चाहिए शरीर के ये 5 अंग, आस-पास फैलती है कई बीमारियां

हमारे हाथों में मौजूद कीटाणु अक्सर हमारे शरीर के संवेदनशील अंगों में फैल जाते हैं और हमें भनक तक नहीं लगती और कई दफा होता ऐसा है कि इन अंगों पर कई सारे कीटाणु जमा हो जाते हैं और दूसरे लोगों तक फैल जाते हैं।

हमारे हाथों में मौजूद कीटाणु अक्सर हमारे शरीर के संवेदनशील अंगों में फैल जाते हैं और हमें भनक तक नहीं लगती और कई दफा होता ऐसा है कि इन अंगों पर कई सारे कीटाणु जमा हो जाते हैं और दूसरे लोगों तक फैल जाते हैं। ये कीटाणु न केवल किसी व्यक्ति को बीमार कर सकते हैं बल्कि उनमें कई बीमारियां भी पैदा कर सकते हैं। अक्सर देखा जाता है कि कोई व्यक्ति खाली बैठे-बैठे अपने शरीर के इन अंगों पर हाथ फैरता रहता है या फिर कोई न कोई हरकत करता रहता है, जो कि एक बेहद गंदी आदत और ये आदत आपके स्वास्थ्य और आपके आस-पास रहने वाले लोगों को नुकसान पहुंचा रही है। अगर आप भी सोच रहे हैं कि ऐसी कौन सी आदत है, तो हम आपको ये बताने जा रहे हैं कि आपको अपने शरीर के इन 5 अंगों को नहीं छुना चाहिए। 

अपने चेहरे को बार-बार न छुएं (Keep your hands off your face)

आपने कई बार अपने आस-पास देखा होगी कि कई लोग बार-बार अपने चेहरे को अपने हाथों से छूते रहते हैं। लेकिन अगर आपने अपना चेहरा धोया है या फिर मॉश्चराइजर लगाया है तो चेहरे को बार-बार छूने से बचें। दरअसल आपके हाथों में आयल होता है, जो आपके चेहरे के छिद्रो को छेड़ता और आपके मुंहासों को बढ़ाता है। आपकी उंगलियों में मौजूद कीटाणु इस प्रभाव को बढ़ा सकते हैं। और अगर आपके पिंपल हो जाते हैं तो उन्हें छूने से बचें क्योंकि यह आपके चेहरे को और बिगाड़ सकता है।

आंखों को मलने से बचें  (Keep your hands off your eyes)

आपकी आंखें बेहद संवेदनशील होती हैं। इनको छूने से ही न केवल इनमें कीटाणु प्रवेश कर सकते हैं बल्कि इनमें गंदगी जाने का खतरा भी बढ़ जाता है, जिसके कारण आंखों में जलन या खुजली भी हो सकती है जो आपकी कोर्निया को नुकसान पहुंचाती है। अगर आपको अपनी आंख छूनी ही है तो ऐसा करने के बाद तुंरत हाथ धोएं। अपनी आंखों को रगड़ने से बचें क्योंकि इससे समय के साथ अधिक झुर्रियां और काले घेरे भी हो सकते हैं। अगर आपकी आंखों में खुजली हो रही है तो जलन को कम करने के लिए उनमें आंखों को गीला करने वाली ड्रॉप डालें।

इसे भी पढ़ेंः स्वस्थ रहने के लिए इन 6 समय पर जरूरी पीएं एक गिलास पानी, बीमारियों से रहेंगे हमेशा दूर

कानों में उंगुली डालने से बचें (Keep your hands off your ears)

हमारे कान के अंदरूनी हिस्से काफी नाजुक होते हैं और इनको नुकसान पहुंचने की आशंका ज्यादा होती है। यही कारण है कि आपको कान के मैल को साफ करने के लिए काफी अंदर तक जाना पड़ता है। विशेषज्ञों के मुताबिक, आपको कभी भी अपनी उंगलियों को अपने कानों के अंदर नहीं डालना चाहिए। कान के अंदर वाली त्वचा बहुत पतली है। खुद से इलाज करने के बजाय कोई भी समस्या होने पर एक डॉक्टर की ही सलाह लेनी चाहिए। अगर आपको वास्तव में अपने कान को सुरक्षित रखना है तो इन तरीकों पर जरूर गौर करें।

नाक में बार-बार उंगुली न डालें (Keep your hands off your nose)

नाक के भीतर अपने स्वस्थ बैक्टीरिया होते हैं। इसमें उंगुली डालकर आप उन्हें अलग बैक्टीरिया देने की कोशिश करते हैं, जो कि गलत है और संक्रमण का कारण बन सकता है। इसके अलावा जब आपकी उंगुलिया नाक के अंदर जाती हैं और बाहर आती हैं तो यह बैक्टीरिया बाहर लेकर आती है और उन्हें फैलाती हैं, यह विशेषकर सर्दी-जुकाम के मौसम के दौरान ज्यादा होता है।

इसे भी पढ़ेंः किसी भी उम्र में ये 5 तरीके आपके शरीर को रखेंगे स्वस्थ, जानें क्यों हैं ये खास

अपने नाखून को छूने से बचें (Keep your hands off your nails)

हाथ और पैर के नाखूनों के नीचे बेहद गंदगी और बैक्टीरिया छिपे होते हैं। यहां तक कि हाथ धोने से भी इन कीटाणुओं का सफाया भी नहीं हो पाता है। यही वजह है कि डॉक्टर और नर्स दस्ताने पहनते हैं। वे लोग, जो अनजाने में नाखून काटकर जमीन पर गेर देते हैं वह इस गंदगी और बैक्टीरिया को फैलाने का काम करते हैं। नाखून चबाने की आदत भी छोड़ने का प्रयास करें क्योंकि वे आपके और आपके आस-पास के लोगों के लिए अस्वस्थ हैं। इस बात का ध्यान रखें कि आपके नाखून भी आपके स्वास्थ्य के बारे में बहुत कुछ बताते हैं।

Read more articles on Mind and Body In Hindi

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK