• shareIcon

पीठ दर्द को दूर करने के ये हैं 5 प्राकृतिक उपचार, जिन्‍हें आप अक्‍सर कर देते हैं नजरअंदाज

Updated at: Nov 26, 2019
घरेलू नुस्‍ख
Written by: अतुल मोदीPublished at: Nov 26, 2019
पीठ दर्द को दूर करने के ये हैं 5 प्राकृतिक उपचार, जिन्‍हें आप अक्‍सर कर देते हैं नजरअंदाज

Lower Back Pain Teatment: पीठ के निचले हिस्‍से में दर्द होना गंभीर समस्‍या है, जिससे अधिकांश लोग परेशान होते हैं। यहां कुछ उपाय बताए गए हैं।  

How To Reduce Lower Back Pain: पीठ के निचले हिस्से में लगातार दर्द ज्यादातर हमारी गतिहीन जीवनशैली के कारण होता है। दरअसल, हम अक्सर अपने पूरे दिन का एक बड़ा हिस्सा बैठकर ही बिताते हैं। हम अपने लैपटॉप पर काम करते हुए पूरे दिन ऑफिस में बैठते हैं, फिर खाना खाते हुए, देर रात को अपना पसंदीदा शो देखते हुए, बैठे हुए स्थिति में सब कुछ करते हैं, जो हमारी पीठ के निचले हिस्से में दबाव डालता है, इसके अलावा हम एक अजीब से दर्द का अनुभव करते हैं। ज्यादातर लोग या तो इसी दर्द के साथ जीते हैं या जब असहनीय हो जाता है तो वे दर्द निवारक लेते हैं। लेकिन ये उपाय आपको केवल अस्थायी रूप से राहत प्रदान करते हैं और अगले दिन दर्द वापस आ जाता है। यहां कुछ प्राकृतिक उपचार बताए गए हैं, जिन्‍हें आप अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं, ताकि आप कमर के निचले हिस्से के दर्द से छुटकारा पा सकें। 

1. नियमित रूप से व्यायाम करें

जैसा कि हम अपना पूरा दिन एक बैठे हुए स्थिति में बिताते हैं, ऐसे में हमारी पीठ की मांसपेशियों को आराम देने के लिए व्यायाम करना महत्वपूर्ण है। नियमित रूप से व्यायाम करने से हमारी पीठ, पेट और पैर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। मजबूत मांसपेशियां हमारी रीढ़ को सहारा देती हैं और पीठ दर्द से राहत दिलाती हैं। पीठ के निचले हिस्से के दर्द से छुटकारा पाने के लिए योग, रनिंग, जॉगिंग और स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज बेहतरीन हैं।

back-pain

2. हीट और कोल्‍ड थेरेपी

पीठ दर्द से राहत दिलाने में हीट और आइस थेरेपी अच्छी तरह से काम करती है। आइस थेरेपी सूजन को कम करती है और हीट थेरेपी आपकी मांसपेशियों को आराम देती है और रक्त परिसंचरण में सुधार करती है। पहले 48 घंटों के लिए, आइस थेरेपी की सलाह दी जाती है, क्योंकि गर्मी आपकी सूजन को बदतर बना सकती है। बर्फ को कभी भी सीधे अपनी त्वचा पर न लगाएं क्योंकि यह आपको नुकसान पहुंचा सकता है। बर्फ के टुकड़ों को कपड़े या तौलिया में लपेटें और इसे प्रभावित जगह पर लगाएं।

3. उचित नींद लें

खराब नींद की मुद्रा भी सुबह में जीर्ण पीठ दर्द का कारण बन सकती है। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप एक अच्छी मुद्रा में रात में 7-8 घंटे की नींद लें। इसके अलावा आपका गद्दा और तकिया भी आपको पीठ के निचले हिस्से में दर्द दे सकता है। इसलिए अगर वे पुराने हैं या ज्‍यादा मुलायम हैं तो उन्हें बदल दें।

इसे भी पढ़ें: पीठ में हो दर्द तो इन सात कामों से करें परहेज

3. हाई हील्‍स 

यह उन महिलाओं के लिए है जो हाई हील्‍स पहनना पसंद करती हैं। अपनी पसंदीदा हाई हील्‍स सैंडिल को पहनने के बाद आप अच्छा और आत्मविश्वास महसूस कर सकती हैं, लेकिन अक्सर इन्हें पहनने से आपको पीठ दर्द हो सकता है। हाई हील्‍स आपके गुरुत्वाकर्षण के केंद्र को स्थानांतरित कर सकती है और आपकी पीठ के निचले हिस्से को चोट पहुंचा सकती है। अगर आप हर दिन हील्स पहनना चाहती हैं तो सुनिश्चित करें कि हील की हाइट एक इंच से ज्यादा न हो।

5. आपका आहार

अनुसंधान के अनुसार, आपके आहार और जीर्ण पीठ दर्द के बीच एक संबंध है। विटामिन डी, विटामिन बी 12 और मैग्नीशियम की कमी भी आपके कभी न खत्म होने वाले पीठ दर्द का एक कारण हो सकता है। इसलिए स्वस्थ और फिट रहने के लिए स्वस्थ और पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

इसे भी पढ़ें: आयुर्वेद में है कमर दर्द के ये प्रमुख कारण, ऐसे करें उपचार

अन्य टिप्स

धूम्रपान छोड़ें: धूम्रपान करने वाले अक्सर जीर्ण पीठ दर्द की शिकायत करते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि धूम्रपान हड्डियों को कमजोर करता है, जिससे पीठ दर्द होता है। इसलिए, यदि आप एक चेन स्मोकर हैं, तो इसे छोड़ने का समय है।

अपने आसन की जांच करें: जब आप बैठे हों या चल रहे हों या कोई अन्य गतिविधि कर रहे हों तो अपनी मुद्रा की जांच करें। कभी भी एक पॉश्‍चर में लगातार बैठने से बचें। 

वजन कम: अतिरिक्त वजन आपकी रीढ़ और पीठ की मांसपेशियों को तनाव देता है। यदि आप पीठ के निचले हिस्से में दर्द की समस्या से पीड़ित हैं, तो कुछ किलो वजन कम करने की कोशिश करें।

Read More Articles On Home Remedies In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK