Healthy Food for Diabetics: दोपहर के भोजन (लंच) में शामिल करें ये 5 फूड, ब्‍लड शुगर लेवल हमेशा रहेगा कंट्रोल

Updated at: Aug 31, 2020
Healthy Food for Diabetics: दोपहर के भोजन (लंच) में शामिल करें ये 5 फूड, ब्‍लड शुगर लेवल हमेशा रहेगा कंट्रोल

Diabetes Diet Tips: डायबिटीज रोगियों को अपने आहार पर खास ध्‍यान देना चाहिए। खासकर दोपहर के भोजन (लंच) में उन्‍हें हेल्‍दी डाइट लेना चाहिए। 

Atul Modi
डायबिटीज़Written by: Atul ModiPublished at: Aug 31, 2020

ब्‍लड शुगर लेवल (Blood Sugar Lavel) को मैनेज करने के लिए आहार का अच्‍छा होना महत्‍वपूर्ण है। अच्‍छी जीवनशैली मधुमेह का प्रबंधन (Diabetes Management) करने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती है। हालांकि इसका ये मतलब बिल्‍कुल भी नहीं है कि आपको अपने पसंदीदा भोजन का त्‍याग करना पड़ेगा। आप भोजन को पकाने और और खाने के तरीकों में तब्‍दीली लाकर उसे स्‍वादिष्‍ठ और हेल्‍दी बना सकते हैं। आप सही आहार योजना (Diet Plan) के माध्‍यम से अपने मधुमेह को प्रबंधित कर सकते हैं। कुछ आहार जैसे- ताजे फल और सब्जियां, साबुत अनाज, प्रोटीन, स्वस्थ वसा आदि के सेवन कर सकते हैं। इस खाद्य पदार्थों को आप अपने दोपहर के भोजन (Lunch) में शामिल कर सकते हैं। यहां हम आपको 5 ऐसे आहार के बारे में बता रहे हैं जो डायबिटीज के पेशेंट को अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहिए। 

1. पत्तेदार सब्जियां 

diabetes-diet

पालक, मेथी, बथुआ व अन्य पत्तेदार हरी सब्जियां कैलोरी में कम होती हैं, लेकिन पोषक तत्वों और एंटीऑक्सिडेंट में ज्‍यादा होती हैं जो ब्‍लड शुगरर को मैनेज में मदद कर सकती हैं, कई लाभों के बीच आपके हृदय और आंखों के लिए काफी फायदेमंद हैं। हरी पत्तेदार सब्जियां कई विटामिन और खनिजों के अच्छे स्रोत भी हैं जैसे कि विटामिन सी जो कि टाइप 2 डायबिटीज और उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों को फायदा करती है। विटामिन सी भी एक बेहतर प्रतिरक्षा से जुड़ा हुआ है।

2. योगर्ट

दही अपने उच्च पोषक तत्व, विशेष रूप से कैल्शियम और संयुग्मित लिनोलिक एसिड (सीएलए) के कारण डायबिटीज रोगियों में स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ावा दे सकता है। शोध से पता चलता है कि संयुग्मित लिनोलिक एसिड इंसुलिन कार्रवाई में सुधार कर सकता है, और ग्लूकोज स्तर को कम कर सकता है। सीएलए, वसा का एक प्रकार, वजन घटाने और प्रतिरक्षा को बढ़ाने में भी मदद कर सकता है। दही में प्रोटीन भी अधिक होता है, जिससे भूख बढ़ सकती है और कैलोरी की मात्रा घट सकती है।

3. हल्दी

हल्दी कई स्वास्थ्य लाभों के साथ एक शक्तिशाली मसाला है। करक्यूमिन, मसाले में सक्रिय तत्व, सूजन को कम करने में मदद कर सकता है और, निम्न रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है। हल्दी में पोषक तत्व और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो हृदय रोग और गुर्दे की समस्याओं से बचा सकते हैं। भारतीय खाना पकाने में मसाले और जड़ी-बूटियां जैसे हल्दी, लहसुन और अदरक एक आवश्यक घटक हैं।

diabetes-diet

4. फैटी फिश (वसायुक्‍त मछली) 

फैटी फिश जैसे सार्डिन, सैल्मन, हेरिंग एक डायबिटीज डाइट के लिए एक बढ़िया स्रोत है। वे ओमेगा-3-फैटी एसिड डीएचए और ईपीए का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं, जो सूजन को कम कर सकते हैं और हृदय स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं। चूंकि मधुमेह रोगियों में हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है, इसलिए इन वसाओं का पर्याप्त होना मधुमेह को प्रबंधित करने के साथ-साथ स्थिति से जटिलताओं को कम करने में एक लंबा रास्ता तय कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: इन 3 कारणों से सुबह बढ़ जाता है आपका शुगर लेवल, जानिए ब्‍लड शुगर कंट्रोल करने के उपाय

5. अंडे

आपको डायबिटीज है या नहीं, इस सुपरफूड को अपने आहार में शामिल करने से आपको अपार स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। वास्तव में, अंडे को प्रोटीन का सबसे अच्‍छा स्रोत माना जाता है। इसमें शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक मात्रा में सभी अमीनो एसिड होते हैं। अंडे खाने से अच्छे या एचडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार होता है, सूजन कम होती है और इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार होता है। एक अध्ययन से पता चला है कि नियमित रूप से दो अंडे खाने से टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में ब्‍लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार होता है। अंडे में ल्यूटिन और ज़ेक्सैन्थिन की महत्वपूर्ण मात्रा भी होती है, जो आपके आंखों के स्वास्थ्य का समर्थन करने वाले एंटीऑक्सिडेंट हैं।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज रोगी तनाव से कैसे निपटें? जानिए क्‍या है सही तरीका

कुल मिलाकर एक स्वस्थ, संतुलित आहार आपको वजन कम करने या बनाए रखने में मदद करेगा, ये आहार ब्‍लड शुगर लेवल को बढ़ने से रोकता है, यहां तक कि मधुमेह से जुड़ी अन्‍य बीमारियों को होने से बचाता है।

Read More Articles On Diabetes In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK