डॉ. स्वाती बाथवाल से जानें गठिया और अर्थराइटिस के मरीजों में यूरिक एसिड घटाने वाले 5 फूड्स

Updated at: Jul 22, 2020
डॉ. स्वाती बाथवाल से जानें गठिया और अर्थराइटिस के मरीजों में यूरिक एसिड घटाने वाले 5 फूड्स

गठिया के रोगी इन 5 फूड्स को खाकर अपने शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा घटा सकते हैं, जिससे उन्हें जोड़ों में दर्द की समस्या से परमानेंट छुटकारा मिल सके।

स्वाती बाथवाल
स्वस्थ आहारWritten by: स्वाती बाथवालPublished at: Jul 22, 2020

गठिया एक दर्दनाक बीमारी है, जिसका मुख्य कारण यूरिक एसिड का बढ़ना है। यूरिक एसिड बढ़ने के कारण ही कार्डियोवस्कुल बीमारियों और मेटाबॉलिक सिंड्रोम का खतरा बढ़ता है। जो लोग मोटापे से ग्रस्त होते हैं, उनके शरीर में इंसुलिन रजिस्टेंस होता है। इंसुलिन रजिस्टेंस के कारण शरीर कम मात्रा में यूरिक एसिड बनाता है। इसका मतलब है कि जब आपके शरीर में मौजूद ग्रंथियां इंसुलिन रिलीज करती हैं, तो आपका शरीर इसका ठीक तरह से इस्तेमाल नहीं कर पाता है, जिससे खून में शुगर की मात्रा बढ़ती रहती है।

यह भी देखा गया है कि जब लिवर ज्यादा मात्रा में ट्राईग्लिसराइड्स पैदा करता है, तो शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है। कुछ रिसर्च में बताया गया है कि प्यूरिन से भरपूर डाइट लेने से खून में यूरिक एसिड 1-2 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर बढ़ता है। आइए आपको बताते हैं कि आप अपने शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा को कैसे घटा सकते हैं।

खट्टे फल खाएं

विटामिन सी से भरपूर चीजें खाने से यूरिक एसिड कम होता है। हमारे शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा सही रखने के लिए कम से कम 500 मिलीग्राम विटामिन सी का रोजाना सेवन बहुत जरूरी है। विटामिन सी से भरपूर आहार जैसे- मौसमी, संतरा, नींबू, धनिया, पुदीना, आंवला, अमरूद, करौंदा आदि बहुत फायदेमंद माने जाते हैं। इन आहारों को खाने से किडनियां यूरिक एसिड को अवशोषित नहीं कर पाती हैं। इसलिए अपनी डाइट में रोजाना कम से कम 1 ग्लास नींबू-पानी, थोड़ी चटनी या हर्ब्स को जरूर शामिल करें। आप खाने में बिना तेल वाले अचार या हरी मिर्च भी खा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: अगर आपको भी गठिया होने की आशंका है तो इन 5 तरीकों से करें जांच

1-2 कप ब्लैक कॉफी पिएं

foods to reduce uric acid

शोधकर्ताओं के अनुसार ब्लैक कॉफी पीने से खून में यूरिक एसिड कम होता है। ब्लैक कॉफी में क्लोरोजेनिक एसिड नाम का एक खास एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो इंसुलिन रेजिस्टेंस को बेहतर बनाता है। मगर यह जरूर ध्यान रखें कि आपको दूध नहीं मिलाना है। दूध मिलाकर कॉफी पीने ये कंपाउंड शरीर में कम अवशोषित होता है, इसलिए आपको ब्लैक कॉफी पीना चाहिए। इसके अलावा हर बाद ब्लैक कॉफी पीने के थोड़ी देर बाद एक ग्लास पानी पीना चाहिए, ताकि शरीर में डिहाइड्रेशन न हो।

खूब पानी पिएं

water for health

अच्छी मात्रा में पानी पीना भी गठिया रोगियों में यूरिक एसिड की मात्रा घटाने में मदद करता है। एक व्यक्ति को औसतन 35 मिलीग्राम प्रति किलोग्राम प्रतिदिन फ्लुइड की जरूरत पड़ती है, इसका मतलब यह है कि कोई व्यक्ति अगर 70 किलो है, तो उसे कम से कम 2.5 लीटर पानी रोजाना जरूर पीना चाहिए। इसके अलावा अगर वो कोई पसीना बहाने वाला काम करता है, तो और अधिक मात्रा में पानी पीने की जरूरत पड़ती है। पानी पीने से शरीर हाइड्रेट रहता है।

लो-फैट डेयरी प्रोडक्ट्स

कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे- व्हे, छाछ (बटरमिल्क), घर पर बना पनीर, लो-फैट दूध से बना दही और लो-फैट वाला दूध आदि का सेवन करने से यूरिक एसिड का लेवल कम हो जाता है। इसका एक कारण यह है कि दूध में खास प्रोटीन लैक्टाबुमिन और सेजियन (lactalbumin and casein) होता है, जो यूरिक एसिड को कम करता है। हालांकि आपको बहुत ज्यादा डेयरी प्रोडक्ट्स खाने की कोई जरूरत नहीं है। आप दिन में 2 कप दही, 50 ग्राम पनीर या 1 ग्लास लो-फैट दूध पी लेते हैं, तो वो भी आपके लिए पर्याप्त होगा।

इसे भी पढ़ें: गठिया और जोड़ों से हैं परेशान, इस नैचुरल ड्रिंक से निकालें शरीर का यूरिक एसिड

बीयर पीना बंद कर दें

alcohol side effects

बीयर में प्यूरिन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। प्यूरिन ही वो तत्व है, जो खून में यूरिक एसिड का घनत्व बढ़ाता है। हालांकि सिर्फ बीयर नहीं, बल्कि अगर आप किसी और भी तरह का एल्कोहल पीना चाहते हैं, तो आपको नहीं पीना चाहिए। सभी तरह के एल्कोहल वाली ड्रिंक्स यूरिक एसिड बढ़ाती हैं। इसलिए गठिया के मरीजों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। जो लोग गठिया से बचना चाहते हैं, उन्हें भी एल्कोहल नहीं पीना चाहिए। हालांकि बहुत थोड़ी मात्रा में (120 ml प्रति दिन) रेड या व्हाइट वाइन पीने से यूरिक एसिड पर कोई फर्क नहीं पड़ता है।

इन उपायों को अपनाने के अलावा भी आपको अपना वजन घटाने के लिए सभी प्रकार के उपाय करना चाहिए। बढ़ा हुआ वजन आपके गठिया की तकलीफ को बढ़ा सकता है। इसलिए अगर आपका वजन बहुत ज्यादा है, तो इन उपायों को भी अपनाएं और वजन भी घटाएं।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK