घर से पढ़ाई कर रहे बच्चों को सुबह से रात तक क्या खिलाएं? सेलिब्रिटी डायटीशियन रुजुता दिवेकर से जानें 5 टिप्स

Updated at: Jun 23, 2020
घर से पढ़ाई कर रहे बच्चों को सुबह से रात तक क्या खिलाएं? सेलिब्रिटी डायटीशियन रुजुता दिवेकर से जानें 5 टिप्स

करीना कपूर की डायटीशियन और सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट रुजुता दिवेकर बता रही हैं कि बच्चों को स्कूल फ्रॉम होम में सुबह से लेकर रात तक क्या खिलाना चाहिए।

Anurag Anubhav
परवरिश के तरीकेWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 23, 2020

बच्चों के स्कूल इन दिनों बंद हैं और बच्चे घर पर रहकर ही ऑनलाइन क्लासेज कर रहे हैं। अभी अगले कुछ समय तक बच्चों को इसी तरह स्कूल फ्रॉम होम (School From Home) करना पड़ेगा क्योंकि बाहर निकलने पर कोरोना वायरस का खतरा बहुत ज्यादा है। ऐसे में घर पर रहे-रहे बच्चों की फिटनेस खराब न हो और वो शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहें, इसके लिए उनके खानपान का विशेष ध्यान रखना जरूरी है। बॉलीवुड एक्ट्रेस करीना कपूर की डायटीशियन और इंडिया की सबसे पॉपुलर सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट रुजुता दिवेकर ने ऐसे स्कूल फ्रॉम होम कर रहे बच्चों के लिए कुछ खास डाइट टिप्स दी हैं, जो बच्चों को फिट और हेल्दी रखेंगी।

school kids diet tips

बच्चों को नाश्ते में क्या खिलाएं?

रुजुता बताती हैं कि फल बच्चों के लिए बहुत हेल्दी विकल्प हैं इसलिए उन्हें फल जरूर खिलाना चाहिए। फलों में विटामिन्स और पॉलीफेनॉल्स होते हैं, जिसके कारण ये पाचन को दुरुस्त रखते हैं, मूड ठीक रखते हैं और भूख शांत करते हैं। इसलिए बच्चों को घर पर बने हेल्दी नाश्ते में पोहा, उपमा, इडली, डोसा के साथ-साथ कोई फल जरूर दें। आप खाने की जगह उन्हें बनाना या मैंगो शेक भी दे सकती हैं। ये फूड्स उनके जंक फूड्स की क्रेविंग को भी शांत करेंगे।

इसे भी पढ़ें: बच्चों को दिमागी रूप से कमजोर बना देती हैं मां-बाप की ये छोटी-छोटी गलतियां, पैरेंट्स रहें सावधान

बच्चों को दोपहर के खाने में क्या खिलाएं?

बच्चों को दोपहर के खाने में हमेशा घर का बना खाना ही खिलाना चाहिए। आप खाने में लेग्यूम्स जैसे- चना, राजमा, छोले, मूंग, मटकी या कोई भी दूसरी दाल या फली बना सकते हैं। इन्हें रात में ही भिगोकर रख दें और अगले दिन पकाकर बच्चों को चावल के साथ खिलाएं। बच्चों को दोपहर के खाने में छाछ जरूर दें। इन फूड्स में मिनरल्स और एमिनो एसिड्स होते हैं, जो पचाने में आसान होते हैं। इसके अलावा खाने में प्री-बायोटिक्स और प्रो-बायोटिक्स का संतुलन रखने से बच्चे हेल्दी रहते हैं।

दोबारा भूख लगने पर क्या खिलाएं?

कई बार मुख्य खाने के बाद फिर बच्चों को दोबारा भूख लग जाती है। ऐसे में आप उन्हें दिन में किसी भी समय एक कटोरी दही में थोड़े से मुनक्के (Black Raisins) डालकर दे सकती हैं। मुनक्का विटामिन बी12 और आयरन का बहुत अच्छा स्रोत होता है। इसके अलावा गर्मियों में ये पेट को ठंडा रखता है और आलस को भगाता है। दही के साथ मुनक्का खाने से हार्मोन्स से जुड़ी समस्याएं दूर होती हैं और भूख भी संतुलित लगती है। इसलिए बच्चों को दिन में 1 बार ये भी दे सकते हैं।

teen diet tips

7 बजे तक खिला दें रात का खाना

पढ़ाई करने वाले बच्चों को आप रात का खाना 7 बजे तक खिला दें। रात के खाने में आप पनीर पराठा, पूरी-सब्जी, रोटी-सब्जी, रोल, अजवाइन पराठा, आलू भुजिया के साथ ज्वार या नचनी बखरी, वेज पुलाव के साथ रायता आदि कुछ भी खिला सकती हैं। इसके अलावा अगर बच्चों का कुछ क्रिस्पी खाने का मन करे तो पापल भी खिला सकती हैं। लेकिन ध्यान रखें कि ये रात का खाना जल्दी खिलाएं। ये खाना आपके बच्चों की पोषण संबंधी जरूरतें भी पूरी करेगा और उन्हें टेस्टी भी लगेगा।

रात में सोने से पहले दूध के साथ पिलाएं ये चीजें

रात में सोने से थोड़ा पहले बच्चों को हल्दी दूध या मैंगो-मिल्क शेक दे सकते हैं। इसके अलावा अगर उन्हें भूख लगी है तो आप गुलकंद वाला दूध, ताजा आम या केला भी दे सकते हैं। ये फूड्स अच्छी नींद लाने में मदद करते हैं और स्वस्थ रखते हैं।

इसे भी पढ़ें: क्या दुलार के चक्कर में आप बच्चों को बिगाड़ रहे हैं? ये हैं ओवर पैरेंटिंग के 5 संकेत, जिनसे बिगड़ते हैं बच्चे

सप्ताह में 1 दिन खिलाएं बच्चों को स्पेशल फूड

बच्चों को सप्ताह 1 दिन उनकी मनपसंद चीजें घर पर ही बनाकर खिलाएं जैसे- होममेड पिज्जा, पास्ता, पाव भाजी या अन्य कोई चीज जो बच्चों को बहुत ज्यादा पसंद हो आप उन्हें शाम के खाने के तौर पर खिला सकती हैं।

Read More Articles on Tips for Parents in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK