• shareIcon

रोजाना 10 मिनट करें 'कोणासन' का अभ्यास, हर तरह के दर्द से मिलेगा छुटकारा और मजबूत होगी रीढ़

योगा By Anurag Gupta , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 20, 2019
रोजाना 10 मिनट करें 'कोणासन' का अभ्यास, हर तरह के दर्द से मिलेगा छुटकारा और मजबूत होगी रीढ़

Yoga For Body Pain: शरीर में होने वाले हर प्रकार के दर्द से छुटकारा पाने और रीढ़ की हड्डियों की मजबूती के लिए रोजाना करें कोणासन का अभ्यास। जानें 10 मिनट इस खास योग को करने के 5 जबरदस्त फायदे।

अक्सर ज्यादा काम करने के बाद मांसपेशियों में दर्द शुरू हो जाता है और थकान महसूस होती है। कई बार ये थकान और दर्द अगले कुछ दिनों तक आपको परेशान करते रहते हैं। इसके अलावा आए दिन कमर दर्द, बदन दर्द, पीठ दर्द और पैरों में दर्द की समस्याएं होती रहती हैं। योगासन इन सभी समस्याओं से आपको आसानी से छुटकारा दिला सकता है। इन समस्याओं में कोणासन का अभ्यास आपके लिए फायदेमंद होगा। कोणासन एक आसान योगासन है, जिसे किसी भी उम्र के लोग कर सकते हैं। आइए आपको बताते हैं इस आसान योगासन को करने के लाभ और इसकी आसान विधि।

कोणासन के अभ्यास के 5 फायदे (Benefits of Konasana Yoga)

  • कोणासन करने से आप सभी तरह के मांसपेशियों के दर्द जैसे- पैर दर्द, कमर दर्द, पीठ दर्द, एड़ियों में दर्द, हाथों में दर्द आदि से छुटकारा पा सकते हैं, क्योंकि ये आसन आपकी मांसपेशियों को फ्लेक्सिबल बनाता है।
  • कोणासन के अभ्यास से शरीर में रक्त का प्रवाह तेज होता है और मस्तिष्क तक ऑक्सीजनयुक्त खून की आपूर्ति तेज हो जाती है, जिसके कारण आपकी चिंता, तनाव और दूसरी मानसिक समस्याएं भी दूर रहती हैं।
  • कोणासन करते समय आप गहरी सांस लेते हैं और शुद्ध ऑक्सीजन को अपने फेफड़ों में भरते हैं, जिससे फेफड़े स्वस्थ रहते हैं और आपके शरीर में दिनभर के लिए एक पॉजिटिव एनर्जी आ जाती है, जिससे आपका दिन अच्छा गुजरता है।
  • कोणासन में शरीर के विभिन्न अंगों का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे जांघ, पैर और बाजू मजबूत होते हैं और कंधे सुडौल बनते हैं। ये आसन ऐसे लोगों के लिए फायदेमंद है, जो अपने कंधों की चौड़ाई बढ़ाना चाहते हैं और बांहों में कट्स बनाना चाहते हैं।
  • कोणासन रीढ़ की हड्डी के लिए एक बेहतरीन आसन है। इसके अभ्यास से रीढ़ की हड्डी का लचीलापन बढ़ता है, जिसके कारण ये हड्डियां लंबी उम्र तक स्वस्थ रहती हैं। इसके अलावा ये आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाता है।

कोणासन करने का तरीका (How to Practice Konasana)

  • सबसे पहले सीधा खड़े हो जाएं और अपने पैरों के बीच 2 फुट का अंतर रखें।
  • अब गहरी सांस भरें और अपने बाएं हाथ को उठाते हुए दाईं ओर शरीर को झुकाते जाएं और हाथों से पैर के पंजों को छूने की कोशिश करें।
  • अपने दाएं हाथ को टखनों पर रखा रहने दें और सीधा रखें।
  • इस दौरान आपका सिर, कंधे और पंजे एक सीध में आ जाने चाहिए। इसके साथ ही अपने दोनों पैरों पर बराबर वजन रखें।
  • इसके बाद सांसों को छोड़ते हुए पहले वाली पोजीशन में आ जाएं।
  • अब यही अभ्यास अपने दाएं हाथ से बाईं ओर झुककर करें।
  • आसन के दौरान आपको अपने पेट के ऊपर का हिस्सा ही झुकाना है। अपने घुटनों और कोहनियों को सीधा ही रखें।

कब और कितना करें अभ्यास

कोणासन एक आसान योगासन है, जिसका अभ्यास आप कहीं भी किसी भी समय कर सकते हैं। घर, ऑफिस, पार्क, छत या किसी भी खुली जगह पर इस आसन को कर सकते हैं। सुबह के समय पार्क या छत पर इस आसन का अभ्यास बेहतर होता है क्योंकि इस समय वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा ज्यादा होती है और हवा ताजी होती है। शुरुआत में आप दोनों ओर से इस आसन को 8-10 बार कर सकते हैं। बाद में जैसे-जैसे आदत बनती जाए, आप अभ्यास बढ़ा सकते हैं।

Read more articles on Yoga Poses in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK