• shareIcon

बादाम का आटा खाने से नहीं होंगी ये 5 बीमारियां, जानें क्यों गेंहूं से ज्यादा होता है फायदेमंद

स्वस्थ आहार By Anurag Gupta , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jun 25, 2019
बादाम का आटा खाने से नहीं होंगी ये 5 बीमारियां, जानें क्यों गेंहूं से ज्यादा होता है फायदेमंद

बादाम का आटा खाने से सेहत को ढेर सारे लाभ मिलते हैं। बादाम का आटा डायबिटीज और वजन को कंट्रोल करता है। हाई ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारी में भी बादाम का आटा फायदेमंद है। जानें क्यों बादाम के आटा, गेंहूं के आटे से ज्यााद अच्छा होता है?

बादाम तो आपने खूब खाया होगा, मगर क्या आप जानते हैं बादाम का आटा भी खाया जाता है? जी हां, बादाम का आटा सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। बादाम में ढेर सारे पौष्टिक तत्व होते हैं, इसलिए बादाम का आटा आपको डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक जैसी कई बड़ी बीमारियों से बचाता है। बादाम के आटे का स्वाद हल्का मीठा होता है, इसलिए ये बच्चों को बहुत पसंद आता है। बढ़ने की उम्र में बच्चों को बादाम का आटा खिलाने से उनका दिमाग बहुत तेज होता है और शरीर का अच्छा विकास होता है। अगर गुणों की मानें, तो बादाम का आटा, गेंहू के आटे से बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। आइए आपको बताते हैं बादाम का आटा खाने के 5 जबरदस्त फायदे।

बहुत पौष्टिक होता है बादाम का आटा (Nutrients in Almond Flour)

बादाम का आटा बहुत पौष्टिक होता है इसलिए बच्चों, बड़ों और बुजुर्गों सभी के लिए ये आटा बहुत फायदेमंद होता है। आप चाहें तो अपने रोजाना के आटे में बादाम का आटा मिलाकर रोटी बना सकते हैं या दूसरी कई डिशेज बना सकते हैं। 28 ग्राम बादाम के आटे में 163 कैलोरीज होती हैं, जबकि इसमें 14.2 ग्राम फैट, 3 ग्राम डाइट्री फाइबर, 6.1 ग्राम प्रोटीन होता है। इसके अलावा बादाम का आटा मैग्नीज, मैग्नीशियम, कॉपर, फॉसफोरस आदि से भरपूर होता है।

खास बात यह है कि बादाम विटामिन ई का बहुत अच्छा स्रोत है। विटामिन ई बालों और त्वचा के विकास के लिए फायदेमंद होता है और रंग निखारता है। विटामिन ई शरीर के लिए एक बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट है, जो व्यक्ति को लंबे समय तक जवान बनाए रखता है और इसके कारण बुढ़ापा के लक्षण जल्दी नहीं दिखते हैं। 28 ग्राम बादाम का आटा खाने से आपको दैनिक जरूरत का 35% विटामिन ई मिल जाता है।

इसे भी पढ़ें:- ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करते हैं इन 4 फलों के जूस, जानें फायदे

डायबिटीज कंट्रोल करे बादाम का आटा (Almond Flour to Control Diabetes)

बादाम का आटा खाना डायबिटीज रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। रोजाना थोड़ी मात्रा में सेवन करने वाले को कभी भी डायबिटीज नहीं होगी। इसका कारण यह है कि बादाम में मैग्नीशियम भरपूर होता है। मैग्नीशियम ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है और इंसुलिन बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा बादाम के आटे में कार्बोहाइड्रेट्स कम होते हैं, जबकि फाइबर और हेल्दी फैट ज्यादा होता है। इसलिए भी बादाम का आटा डायबिटीज के रोगी के लिए वरदान है। टाइप-2 डायबिटीज के रोगियों को रोजाना बादाम के आटे का सेवन करना चाहिए।

Buy Online: Urban Platter Natural Almond Flour, 200g [Gluten-Free, Low-carb, Unblanched], Offer Price: Rs. 270/-

बादाम का आटा दूर करे दिल की बीमारी (हार्ट अटैक) का खतरा (Almond Flour For Heart)

बादाम का आटा खाने वाले को हार्ट अटैक, हार्ट फेल्योर, स्ट्रोक आदि बीमारियों का खतरा बहुत कम हो जाता है। दरअसल बादाम का आटा शरीर से बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। दिल के मरीजों के लिए बादाम हमेशा फायदेमंद समझा जाता रहा है। इसलिए हार्ट के रोगियों को अपनी डाइट में बादाम का आटा शामिल करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:- विटामिन डी की कमी को पूरा करेंगे ये 4 ड्रिंक्स, ज्यादातर लोगों में होती है इसकी कमी

ब्लड प्रेशर और वजन कंट्रोल करे (Almond Flour to Control Weight and Blood Pressure)

बादाम का आटा शरीर से बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, इसलिए ये हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए भी बहुत फायदेमंद है। कई शोध बताते हैं कि शरीर में मैग्नीशियम की कमी होने के कारण भी ब्लड प्रेशर की समस्या हो जाती है। बादाम के आटे में मैग्नीशियम भरपूर होता है इसलिए हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को भी बादाम के आटे का सेवन करना चाहिए।

बादाम का आटा खाने से वजन भी कम होता है, क्योंकि इसमें फाइबर ज्यादा होता है और हेल्दी फैट होता है।

गेंहूं का आटा या बादाम का आटा? (Almond Flour vs. Wheat Flour)

28 ग्राम बादाम के आटे में 163 कैलोरीज, जबकि गेंहूं के आटे में 102 कैलोरीज होती हैं। यानी कैलोरीज के अनुसार देखें, तो बादाम का आटा ज्यादा हैवी होता है, मगर बादाम में मौजूद दूसरे गुणों के कारण हैवी होने के बाद भी बादाम का आटा, गेंहूं से बहुत ज्यादा सेहतमंद होता है। जानें क्यों फायदेमंद है बादाम का आटा-

  • गेंहूं के आटे में कार्बोहाइड्रेट्स ज्यादा होते हैं, जबकि बादाम के आटे में कार्बोहाइट्रेट्स कम होते हैं।
  • गेंहूं का आटे में ग्लूटेन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है, जबकि बादाम का आटा ग्लूटेन फ्री (0% ग्लूटेन) होता है।
  • 28 ग्राम बादाम के आटे में आपको दिनभर की जरूरत भर का विटामिन ई, मैग्नीज, मैग्नीशियम और फाइबर आदि सभी जरूरी पोषक तत्व मिल जाते हैं।
  • बादाम के आटे में कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक और आयरन होता है, जिससे ये आसानी से पचता है और शरीर के साथ-साथ दिमाग के लिए फायदेमंद होता है।

Read more articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK