• shareIcon

Blood Urea Nitrogen : खून में यूरिया बढ़ने से हो सकते हैं कई नुकसान, इन 5 आयुर्वेदिक तरीकों से कम करें खून में यूरिया

आयुर्वेद By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 19, 2019
Blood Urea Nitrogen : खून में यूरिया बढ़ने से हो सकते हैं कई नुकसान, इन 5 आयुर्वेदिक तरीकों से कम करें खून में यूरिया

लंबे समय तक यूरिया के रक्त में बने रहने से किडनी डैमेज हो सकती है और प्यास, सिरदर्द, थकान, चक्कर, अंगों में बेचैनी, पेट में दर्द जैसे रक्त में यूरिया की मात्रा ज्यादा होने के लक्षण हैं। 

सभी स्वस्थ व्यक्तियों के रक्त में यूरिया की कुछ मात्रा हमेशा मिलेगी। फिर भी जब रक्त में यूरिया (Urea In Blood) का स्तर बहुत ज्यादा हो जाता है तो शरीर के कुछ हिस्से में खराबी आने लगती है, जिसके कारण शरीर इस अतिरिक्त यूरिया को सफलतापूर्वक निकालने में सक्षम नहीं हो पाता। यह यूरिया लिवर में बन सकता है, जहां प्रोटीन मेटाबॉलिज्म का कैमिकल संतुलन की प्रक्रिया होती है। रक्त में यूरिया की मात्रा बढ़ जाने से यह तब तक हमारी शरीर के अंगों में संचारित होता है जब तक किड़नी इसे पेशाब के जरिए बाहर नहीं निकाल देती। 

लेकिन जब यह यूरिया पूरे तरीके से साफ नहीं हो जाता तो यह हमारे रक्त में बना रहता है और हमारी किडनी व अन्य अंगों के साथ-साथ किडनी के रक्त प्रवाह के लिए समस्या खड़ी कर देता है। इसके कारण जलन, हार्ट फेलियर, उल्टी, दस्त के साथ-साथ डायबिटीज जैसी गंभीर भी हो सकती है। लंबे समय तक यूरिया के रक्त में बने रहने से किडनी डैमेज हो सकती है और प्यास, सिरदर्द, थकान, चक्कर, अंगों में बेचैनी, पेट में दर्द जैसे रक्त में यूरिया की मात्रा ज्यादा होने के लक्षण हैं। अगर आप इस समस्या से परेशान हैं तो हम आपको 4 ऐसे आयुर्वेदिक तरीके बताने जा रहे हैं, जिसके जरिए आप प्राकृतिक तरीके से रक्त में यूरिया के स्तर को कम कर सकते हैं।

रक्त में यूरिया के स्तर को कम करने के 5 आयुर्वेदिक तरीके

हर्बल दवाएं

आयुर्वेद एक प्राचीन विज्ञान है जिसका उपयोग डायबिटीज, किडनी फेलियर, हृदय रोगों और पुराने से पुरानी और दर्दनाक बीमारियों से पीड़ित कई रोगियों के लाभ के लिए किया जा सकता है। आयुर्वेद के मुख्य सिद्धांतों में से एक में दवाओं और मनगढ़ंत बनाने के लिए जड़ी बूटियों का उपयोग शामिल है, जो उनके 100% प्राकृतिक तत्वों के साथ राहत देने में मदद करता है। मुत्रिक्रींतक चूर्ण, पुनर्नवा मंडूर, वरुणादि वटी और कई अन्य दवाओं का उपयोग डायलिसिस से बचने और किडनी के बेहतर तरीके से काम करने और रक्त में यूरिया के स्तर को नीचे लाने के लिए किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ेंः बदलते मौसम में डेंगू, मलेरिया और संक्रामक बीमारियों से बचने के लिए अपनाएं ये 7 आयुर्वेदिक टिप्‍स

पुनर्नवा

इस जड़ी बूटी का नाम दो शब्दों - पुना और नवा से लिया गया है। पुना का मतलब फिर से और नवा का मतलब नया होता है। साथ मिलकर यह दोनों ही उपचार किए जा रहे अंग को नए सिरे से काम करने में मदद करते हैं। यह जड़ी-बूटी बिना किसी दुष्प्रभाव के सूजन को कम कर किडनी से अतिरिक्त तरल पदार्थ बाहर निकालने में मदद करते हैं।

वरुण

यह एक सामान्य दवा है, जिसका उपयोग गुर्दे के क्षेत्र में मौजूद पथरी को तोड़ने के लिए किया जा सकता है और यहां तक कि मूत्र पथ के संक्रमण के इलाज के लिए भी काम आती है। यह जड़ी बूटी किसी भी तत्व को हटाने में मदद करती है, जो मूत्र पथ को बाधित कर सकती है। इतनी ही नहीं यह किडनी में अतिरिक्त तरल पदार्थ के निर्माण और सूजन को दूर करने का काम करती है।

इसे भी पढ़ेंः हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का आयुर्वेदिक इलाज है गुग्गुल, मगर सेवन में बरतें ये 6 सावधानियां

गोकशुर

यह एक मूत्रवर्धक औषधि है, जो गुर्दे की कमजोर कोशिकाओं को ताकत देने और उन्हें फिर से ताकतवर बनाने के लिए काम आती है। इसका प्रयोग एक हर्बल टॉनिक के रूप में किया जा सकता है।

हाइग्रोफिला ऑरीकुलता

यह रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा करने के लिए एक बेहद ही जरूरी आयुर्वेदिक दवा है।

Read more articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK