दिन भर मोजे पहनने के बाद पैरों पर पड़ जाते हैं कुछ इस तरह के निशान? तो इन 4 गंभीर समस्याओं से जूझ रहे हैं आप

Updated at: Aug 07, 2020
दिन भर मोजे पहनने के बाद पैरों पर पड़ जाते हैं  कुछ इस तरह के निशान? तो इन 4 गंभीर समस्याओं से जूझ रहे हैं आप

क्या दिन भर जुर्राब पहनने के बाद आपके पैरों पर कुछ इस तरह के निशान पड़ जाते हैं। अगर आपका जवाब हां है तो ये 4 समस्यााएं हो सकती हैं। 

 

Jitendra Gupta
विविधWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Aug 07, 2020

आपने अक्सर गौर किया होगा कि बहुत ज्यादा देर तक जुर्राब पहने रहने के बाद जब आप थक हार कर अपने मोजे उतारते हैं तो आपके पैरों पर कुछ प्रकार की आकृतियां छपी होती हैं। आप शायद इसे मामूली बात समझकर नजरअंदाज भी कर देते होंगे। लेकिन अगर आपके साथ ऐसा रोजाना हो रहा है तो इसे नजरअंदाज करना आपकी एक बड़ी भूल साबित हो सकती है। दरअसल होता यूं है कि कभी-कभी आपके मोजे आपके टखनों पर लाल छाप छोड़ देते हैं। अगर ऐसा सिर्फ एक या दो बार होता है, तो यह संकेत हो सकता है कि मोजे को फिसलने से बचाने वाला इलास्टिक बहुत ज्यादा सख्त है। लेकिन अगर आपके मोजे के निशान सामान्य हैं, तो यह एक संकेत है कि आपका शरीर आपको बता रहा है कि जरूर कुछ गलत हो सकता है। इस लेख में हम आपको ऐसी 4 समस्याओं के बारे में बता रहे हैं, जिनका अंदाजा सिर्फ आप अपने पैरों को देखकर लगा सकते हैं। इसके साथ ही हम आपको कुछ बचाव के तरीके भी सुझाएंगे, जो आपके काम आ सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि कौन सी 4 स्वास्थ्य समस्याएं आपके पैरों पर पड़े जुराबों के निशानों से ही पता चल जाती हैं। 

socks

हाई ब्लड प्रेशर (High blood pressure)

अगर आपको जुर्राब उतारने के बाद सूजे हुए पैरों की परेशानी का अनुभव हो रहा है तो इसका कारण आपके पैरों के निचले हिस्से में अतिरिक्त तरल पदार्थ का बनना हो सकता है।  आमतौर पर, इस स्थिति में आपको दर्द नहीं होता है लेकिन मोजे पहनने से आपको असहज जरूर महसूस हो सकता है। हाई ब्लड प्रेशर फ्लूयड रिटेंशन के कारण होता है और यह हृदय को पूरे शरीर में रक्त के परिसंचरण करने के लिए कठोर बना देता है। शरीर तरल पदार्थ को पकड़कर प्रतिक्रिया करता है, जो आमतौर पर हमारे पैरों और तलवों में जाकर इकठ्ठा हो जाता है। 

इसे भी पढ़ेंः हाथ-पैर में लगातार दर्द या सूजन को न करें अनदेखा, ये सारकोमा कैंसर के हैं संकेत: डॉ. मनीष परूथी

वेरिकॉज वेन्स (Varicose veins)

जब आपके पैरों की नसें कमजोर हो जाती हैं, तो वे आपके दिल में जल्दी से खून नहीं लौटा सकती। रक्त फिर आपके पैर की नसों में वापस जाता है और आपको दर्द भरी सूजन का अहसास होने लगता है। ह स्थिति वेरिकॉज वेन्स में योगदान करने वाले कारकों में से एक है। अगर आपके पैरों पर नियमित रूप से जुर्राब के निशान पड़ रहे हैं, तो आपका शरीर आपको यह संकेत देने की कोशिश कर रहा है कि आपकी नसें आपके दिल में रक्त प्रवाह को वापस नहीं ले जा पा रही हैं।

swelling

डिहाइड्रेशन (Dehydration)

अगर आपके शरीर को पर्याप्त पानी नहीं मिलता है, तो यह आपके रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है। क्षतिग्रस्त नसें छोटी लीक बनाना शुरू कर सकती हैं जो तरल पदार्थ को आसपास के ऊतकों में निर्माण करने की अनुमति देती हैं। इस तरल पदार्थ को एकत्र करने के लिए सामान्य स्थान टखनों और पैरों के आसपास होते हैं। आपकी एड़ियों के आसपास दिखाई देने वाले ये निशान इस बात का संकेत हो सकते हैं कि आपका शरीर डिहाइड्रेट है।

इसे भी पढ़ेंः  पैरों में सूजन की समस्या बनी रहती है तो इन 4 नैचुरल तरीकों से करें घर पर इलाज, जल्द मिलेगा आराम

दवा से साइड इफेक्ट (Side effects from medication)

कुछ दवाओं के कारण भी पैर के निचले हिस्से में सूजन हो सकती है। कुछ प्रकार के एंटीडिपेंटेंट्स और ब्लड प्रेशर की दवाएं सूजन वाले पैरों की अप्रिय भावना को जन्म दे सकती हैं। कुछ प्रकार की गर्भनिरोधक (विशेष रूप से जन्म नियंत्रण की गोलियां जिनमें एस्ट्रोजन होता हैं) एक महिला के शरीर में हार्मोन के स्तर को बदल सकते हैं और पानी की कमी या सूजन का कारण बन सकते हैं। 

नियमित रूप से जुर्राब के निशान मिलने पर आप क्या करें

अगर आपके पैरों पर नियमित रूप से जुर्राब के निशान दिखाई देते हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा है। लेकिन आप कुछ सरल उपायों का पालन कर इस स्थिति में सुधार कर सकते हैं, जो सूजन वाले पैरों की अप्रिय भावना को कम कर सकते हैं।

  • अपने आहार में नमक कम करें।
  • स्वस्थ वजन बनाए रखें।
  • सांस लेने वाले मोजे पहनें।
  • बार-बार पोजिशन बदलें और लंबे समय तक बैठने या खड़े होने से बचें।
  • कम हील वाले आरामदायक जूते पहनें।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK