आधी-अधूरी नींद लेने की आदत आपको अंजाने में बना सकती है इन 4 समस्याओं का शिकार, जानें कितनी नींद है जरूरी

Updated at: Aug 20, 2020
आधी-अधूरी नींद लेने की आदत आपको अंजाने में बना सकती है इन 4 समस्याओं का शिकार, जानें कितनी नींद है जरूरी

अगर रोज आपकी नींद पूरी नहीं हो रही है और आप आधी-अधूरी नींद लेकर उठ जाते हैं, तो सावधान हो जाएं क्योंकि ये आपकी जिंदगी, आपकी सेहत के लिए बहुत खतरनाक है

Anurag Anubhav
विविधWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Aug 20, 2020

नींद हमारे शरीर की मूलभूत जरूरतों में से एक है। ऐसा संभव नहीं है कि कोई व्यक्ति कभी न सोए और वो स्वस्थ रह सके। हम सभी रोज सोते हैं। लेकिन हम में से ज्यादातर लोग उतनी नींद नहीं लेते हैं, जितनी एक दिन में हमारे शरीर के लिए जरूरी होती है। आज के डिजिटलयुग में नींद की कमी एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आ रही है। रात में नींद पूरी न होने से आपको अगले दिन थकान, आलस, मूड स्विंग्स और बोझिल पलकों की समस्या तो होती ही है, लेकिन इससे भी गंभीर बात ये है कि इसके कारण कई तरह की बड़ी स्वास्थ्य समस्याएं भी होती हैं। हम आपको बता रहे हैं आधी-अधूरी नींद के कारण होने वाली 4 सबसे आम स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में।

side effects of less sleep in hindi

भूख ज्यादा लगना और मोटापा बढ़ना

जब आप ज्यादा देर तक जागते हैं, तो आपको ज्यादा भूख लगती है। नैशनल स्लीप फाउंडेशन के अनुसार देर रात तक जागने से शरीर में घ्रेलिन (Ghrelin) नामक हार्मोन का उत्पादन बढ़ जाता है। ये हार्मोन आपके भूख को उत्तेजित करता है। ज्यादा भूख लगने के कारण आप ज्यादा खाते हैं, जिससे आपका वजन बढ़ता है। इसका सबसे ज्यादा शिकार वो लोग होते हैं, जो देर रात तक जागते हैं। अगर आपको रात में नींद जल्दी नहीं आती है और आप मोबाइल, लैपटॉप देखते हुए कुछ न कुछ खाते रहते हैं, तो समझ लें कि आप बहुत जल्दी कई गंभीर बीमारियों का शिकार होने वाले हैं। देर रात खाया गया खाना आपके शरीर में पचता नहीं है इसलिए ये आपके शरीर की चर्बी, ब्लड शुगर और मोटापा बढ़ाता है। इसके अलावा लंबे समय में ये आदत लिवर सिरोसिस, फैटी लिवर, कैंसर जैसी बीमारियां भी दे सकती है।

इसे भी पढ़ें: रातभर करवट बदलते रहते हैं पर सो नहीं पाते हैं तो करें ये 5 काम, झट से आ जाएगी गहरी और अच्छी नींद

इम्यूनिटी घटती है, इंफेक्शन का खतरा बढ़ता है

आधी-अधूरी नींद का असर आपकी इम्यूनिटी पर भी पड़ता है। इसलिए अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, तो आपको कई तरह की बीमारियों और इंफेक्शन का खतरा ज्यादा होता है। ध्यान रखें कि जब आप सोते हैं, तो आपका इम्यून सिस्टम कई तरह के प्रोटेक्टिव और इंफेक्शन से लड़ने वाले केमिकल्स शरीर में रिलीज करता है। इन केमिकल्स की मदद से ही शरीर बाहरी दुनिया से शरीर में प्रवेश करने वाले बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में सक्षम हो पाता है। इसलिए अगर आप कम सोएंगे, तो आपका इम्यून सिस्टम इन केमिकल्स को कम रिलीज करेगा और आपकी इम्यूनिटी कमजोर होती जाएगी।

शरीर के सभी सिस्टम होने लगते हैं फेल

हमारे शरीर में अलग-अलग फंक्शन्स के लिए अलग-अलग सिस्टम हैं, जिन्हें हिंदी में शरीर के तंत्र कहा जाता है। नींद हमारे इन सभी सिस्टम को सही से काम करने में मदद करती है। अगर आप कम सोते हैं तो इसका असर आपके शरीर के सभी मुख्य सिस्टम्स, खासकर सेंट्रल नर्वस सिस्टम (तंत्रिका तंत्र), इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा तंत्र), रेस्पिरेटरी सिस्टम (श्वसन तंत्र), कार्डियोवस्कुलर सिस्टम (वाहिका तंत्र), एंडोक्राइन सिस्टम आदि पर बहुत बुरा पड़ता है। इससे आपका पूरा शरीर और सेहत धीरे-धीरे बरबाद होने लगती है।

Effects Of Sleep Deprivation On the Body

सेक्सुअल लाइफ पर भी पड़ता है असर

कम नींद लेने से आपकी सेक्सुअल लाइफ पर भी इसका असर पड़ता है। दरअसल नींद की कमी से टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन का प्रोडक्शन कम होता है। ये हार्मोन पुरुषों में मुख्स सेक्स हार्मोन माना जाता है। इसके अलावा नींद कम लेने से व्यक्ति को तनाव, डिप्रेशन और मानसिक उलझन भी होती है, जिसका असर उसकी सेक्स लाइफ पर पड़ता है। इसलिए अच्छी सेक्सुअल लाइफ के लिए भी बहुत जरूरी है कि आप पूरी और सुकून भरी नींद लें।

इसे भी पढ़ें: नींद न आने से रात भर बदलते रहते हैं करवट, तो 5 मिनट वाले ये 3 योगासन करेंगे 'गहरी नींद' लाने में मदद

रोजाना कितनी नींद है जरूरी?

वैसे तो किसी व्यक्ति के शरीर के लिए कितनी नींद जरूरी है ये उस व्यक्ति की उम्र, खानपान, रोजाना की गई मेहनत, काम के घंटे और लिंग आदि सभी पर निर्भर करता है। मगर वयस्कों को औसतन रोजाना 7 से 9 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। इसका अर्थ है कि अगर आप स्वस्थ हैं, तो आपको हर दिन कम से कम 7 घंटे तो जरूर सोना चाहिए और 9 घंटे से ज्यादा भी नहीं सोना चाहिए।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK