दिनभर स्मार्टफोन चलाने वालों को हो रही हैं हड्डियों और आंखों से जुड़ी ये 4 समस्याएं, जानें इनसे बचाव के टिप्स

Updated at: Sep 01, 2020
दिनभर स्मार्टफोन चलाने वालों को हो रही हैं हड्डियों और आंखों से जुड़ी ये 4 समस्याएं, जानें इनसे बचाव के टिप्स

स्मार्टफोन के ज्यादा इस्तेमाल से हड्डियों और आंखों की कई समस्याएं तेजी से बढ़ रही हैं। ऐसे में हर स्मार्टफोन यूजर के लिए कुछ सावधानियां बेहद जरूरी है।

Anurag Anubhav
अन्य़ बीमारियांWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 01, 2020

स्मार्टफोन्स धीरे-धीरे हमारे जीवन का एक जरूरी हिस्सा बन गए हैं। आज बच्चों से लेकर बूढ़ों तक, ज्यादातर लोग अपने साथ स्मार्टफोन रखते हैं। बहुत सारे युवाओं के लिए तो स्मार्टफोन खाना, पानी जितना जरूरी हो गया है। सोशल मीडिया, चैटिंग, गेमिंग, इंटरनेट सर्फिंग, बैंकिंग, ऑनलाइन लर्निंग, वीडियो चैटिंग, मीटिंग आदि न जाने कितना कुछ हम एक ही स्मार्टफोन की मदद से कर सकते हैं। लेकिन स्मार्टफोन के बहुत ज्यादा इस्तेमाल से लोगों में कुछ समस्याएं देखने को मिल रही हैं, खासकर युवा इन समस्याओं का बड़ी संख्या में शिकार हो रहे हैं।

हर दिन पूरे-पूरे दिन स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से हाथों, उगलियों, कोहनी और आंखों से जुड़ी कई समस्याएं सामने आने लगी हैं। इनमें 3 समस्याएं सबसे आम हैं।

smartphone injuries

पिंक आई सिंड्रोम (Pink Eye Syndrome)

ये स्मार्टफोन यूजर्स की सबसे आम समस्या है। बहुत देर तक फोन के इस्तेमाल करने या देर रात तक जागकर स्मार्टफोन इस्तेमाल करने से आंखों की नर्व्स में सूजन आ जाती है, जिससे आंखें लाल हो जाती हैं। ये समस्या लैपटॉप और टैबलेट यूजर्स के साथ भी होती है। इसे पिंकी सिंड्रोम कहते हैं।

इसे भी पढ़ें: स्मार्टफोन और कंप्यूटर का 7 घंटे से ज्यादा इस्तेमाल खतरनाक, मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव: एक्सपर्ट

टेक्सटिंग थंब सिंड्रोम (Texting Thumb Syndrome)

जो लोग बहुत ज्यादा चैट करते हैं या स्मार्टफोन पर बहुत ज्यादा टेक्स्ट टाइप करते हैं, उनमें ये समस्या खासतौर पर देखी जाती है। इस समस्या के कारण अंगूठे की नसें, मांसपेशियां और नर्व्स डैमेज होने लगती हैं। शुरुआत में तो इसका पता आपको नहीं चलता है, मगर धीरे-धीरे इसके कारण व्यक्ति की चीजों को पकड़ने की क्षमता खोने लगती है और अंगूठे में दर्द रहने लगता है।

सेल्फी एल्बो (Selfie Elbow)

सेल्फी एल्बो एक न्यूरो-ऑर्थोपीडिक समस्या है, यानी इसके कारण आपकी हड्डियों और नर्व्स दोनों पर बुरा असर पड़ता है। सेल्फी एल्बो के नाम में भले ही सेल्फी है, लेकिन ये समस्या सिर्फ सेल्फी लेने वालों नहीं, बल्कि स्मार्टफोन के अन्य यूजर्स को भी हो सकती है। लेकिन आमतौर पर जो लोग सेल्फी ज्यादा लेते हैं, उन्हें ये समस्या ज्यादा होती है। इस समस्या के कारण व्यक्ति के हाथों और कोहनियों में दर्द की समस्या होने लगती है।

selfie elbow problem

टेक्स्ट नेक सिंड्रोम (Text Neck Syndrome)

स्मार्टफोन के इस्तेमाल के समय आमतौर पर गर्दन झुकी हुई रहती है। ऐसे में बहुत देर तक स्मार्टफोन चलाने वालों को एक और समस्या तेजी से हो रही है, जिसे टेक्स्ट नेक सिंड्रोम कहते हैं। इसके कारण गर्दन और आर्म्स (भुजाओं) में दर्द होता है। लंबे समय में ये छोटी सी आदत आपकी रीढ़ की हड्डियों को नुकसान पहुंचा सकती है।

इसे भी पढ़ें: रात में स्मार्टफोन, लैपटॉप जैसे डिवासेज का ज्यादा इस्तेमाल पुरुषों के लिए खतरनाक, घटती है स्पर्म क्वालिटी

इन समस्याओं से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय

  • कोशिश करें कि मोबाइल फोन का इस्तेमाल कम से कम करें।
  • अगर आप वीडियो देख रहे हैं, तो मोबाइल फोन को देर तक हाथ में पकड़े रखने के बजाय किसी जगह पर रखकर देखें।
  • स्मार्टफोन पर बहुत ज्यादा टेक्स्ट टाइप करना पड़ता है, तो बेहतर है कि वॉइस टाइपिंग का इस्तेमाल करें।
  • अगर स्मार्टफोन का इस्तेमाल दिनभर मजबूरी है, तो कम से कम एक 'ब्लू रे कट ग्लासेज' (Blue Ray Cut Glasses) चश्मा लगाएं।
  • कोशिश करें कि लंबे इस्तेमाल में आपको देर तक सिर झुकाकर स्मार्टफोन न चलाना पड़े।
  • देर रात तक जागकर मोबाइल फोन का इस्तेमाल न करें। नींद आपके लिए बहुत जरूरी है।
  • एक ही हाथ से देर तक मोबाइल न चलाएं और ही सर्फिंग के लिए सिर्फ अंगूठे का प्रयोग करें। इसके बजाय अन्य उंगलियों का भी इस्तेमाल करें और हाथ बदलते रहें।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK