पुरुषों के चेहरे के लिए जरूरी हैं ये 4 एसिड्स, चेक करें अपना ब्यूटी प्रोडक्ट

पुरुषों के चेहरे के लिए जरूरी हैं ये 4 एसिड्स, चेक करें अपना ब्यूटी प्रोडक्ट

आजकल पुरुष भी मेकअप और ब्यूटी प्रोडक्ट्स में दिलचस्पी लेने लगे हैं। इसीलिए ब्यूटी प्रोडक्ट्स बनाने वाली कंपनियां भी अब पुरुषों के लिए बाजार में विशेष क्रीम लाने लगी हैं।

आजकल पुरुष भी मेकअप और ब्यूटी प्रोडक्ट्स में दिलचस्पी लेने लगे हैं। इसीलिए ब्यूटी प्रोडक्ट्स बनाने वाली कंपनियां भी अब पुरुषों के लिए बाजार में विशेष क्रीम लाने लगी हैं। मगर क्या आपको पता है कि बिना चेक किए किसी भी क्रीम या ब्यूटी प्रोडक्ट का चेहरे पर इस्तेमाल खतरनाक हो सकता है। इसलिए आप जब भी कोई ब्यूटी प्रोडक्ट लें, उसमें मौजूद कंपोजीशन का लेबल जरूर देख लें। कुछ ऐसे एसिड हैं, जो पुरुषों की त्वचा के लिए फायदेमंद होते हैं इसलिए आपके ब्यूटी प्रोडक्ट में इन एसिड्स का होना बहुत जरूरी है। जी हां, एसिड का नाम सुनकर घबराएं नहीं क्योंकि ये हमेशा नुकसानदायक नहीं होते। बल्कि कुछ एसिड्स आपकी त्वचा और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं।

ग्लाइकोलिक एसिड

ग्लाइकोलिक एसिड पुरुषों की त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। दरअसल पुरुषों की त्वचा सख्त होती है। ऐसे में ग्ला‍इकोलिक एसिड त्वचा में बड़ी आसानी से समा जाता है और चेहरे को अंदर से टोन करता है। हालांकि पुरुषों के ग्रूमिंग प्रॉडक्ट्स में ग्लाइकोलिक एसिड की मात्रा कम ही होनी चाहिए क्योंकि त्वचा पर इसका असर बहुत जल्दी पड़ता है। फेसवॉश और क्लींज़र में ग्लाइकोलिक एसिड होता है जो त्वचा में नमी बनाए रखता है।

इसे भी पढ़ें:- त्वचा के पोर्स क्यों हो जाते हैं बड़े और कैसे करें इनकी सफाई?

सैलिसिलिक एसिड

सैलिसिलिक एसिड को बीटा हाइड्रॉक्सी एसिड या बीएचए भी कहते हैं। बीएचएए एक्सफोलिएंट का काम करता है। यानी कि इसमें त्वचा की उपरी परत को हटाने की क्षमता होती है, जिससे ताजी त्वचा ज्यादा मुलायम और चिकनी होती है। साथ ही बीएचएए के जरिए त्वचा की गंदगी और तेल को भी हटाता है, जो कि मुहांसे का मुख्य कारण है। एक बीएचए प्रोडक्ट में अधिकतर सैलिसिलिक एसिड पाया जाता है और इसके सही रूप से काम करने के लिए इसका पीएच बैलेंस 3 से 4 के बीच होना जरुरी है |

रेटिनॉइक एसिड

उम्र बढ़ने के साथ त्वचा संबंधी ढेर सारी समस्याएं शुरू हो जाती हैं। ऐसे में 25 साल की उम्र के बाद पुरुषों को रेटिनॉइक एसिड का प्रयोग करना चाहिए। रेटिनॉइड एसिड त्वचा पर रक्षा कवच की तरह काम करता है। इसके अलावा ये मुहांसों और दानों को ठीक करने में भी मदद करता है। दरअसल त्वचा में मेलानिन के उत्पादन पर रेटिनॉइक एसिड कंट्रोल करता है जिससे पिगमेंटेशन की समस्या कम रहती है। इसे ट्रेटिनॉइन कहते हैं जो ब्लेड से लगे घावों को भी ठीक करता है। त्वचा की मरम्मत करने के दौरान ये एसिड त्वचा की नई कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है।

इसे भी पढ़ें:- जानें क्या है एंटी-एजिंग प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करने की सही उम्र, किन बातों का रखें ध्यान

हाईऐल्युरोनिक एसिड

त्‍वचा में नमी बनाए रखने के लिए हाईऐल्युरोनिक एसिड युक्‍त सीरम का प्रयोग कर सकते हैं। अगर आपकी त्वचा ड्राई है तो हाईऐल्युरोनिक एसिड आपके काम का है। क्‍योंकि यह प्राकृतिक रूप से आपकी त्‍वचा नम रखता है, यह एसिड मानव शरीर में भी पाया जाता है। 40 की उम्र तक शरीर में त्‍वचा और जोड़ों का 50 प्रतिशत हाईऐल्युरोनिक एसिड खत्म हो जाता है। ऐसे में हाईऐल्युरोनिक एसिड इंग्रीडिएंट्स वाले प्रोडक्ट त्‍वचा की नमी बढ़ाकर एजिंग की समस्‍या को कम कर सकते हैं।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Skin care In Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।