बिना दवा, सप्लीमेंट या हेल्दी फूड खाकर भी बढ़ाई जा सकती है इम्यूनिटी, जानें इम्यूनिटी बढ़ाने के 3 आसान तरीके

Updated at: Jun 26, 2020
बिना दवा, सप्लीमेंट या हेल्दी फूड खाकर भी बढ़ाई जा सकती है इम्यूनिटी, जानें इम्यूनिटी बढ़ाने के 3 आसान तरीके

मौजूदा वक्त में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए तरह-तरह के उपाय कर रहे हैं लेकिन ये 3 आसान तरीके आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने में जरूर मदद कर सकते हैं। 

Jitendra Gupta
तन मनWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Jun 26, 2020

जब से नोवल कोरोनवायरस यानी की कोविड 19 का प्रकोप पूरी दुनिया में फैला है तब से विटामिन सी टैबलेट, जिंक सप्लीमेंट और आयुर्वेदिक उत्पादों सहित  इम्यूनिटी बढ़ाने वाले उत्पादों की बिक्री में तेजी से इजाफा हुआ है। ये सभी हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली यानी की इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने का दावा करते हैं। चूंकि अभी तक COVID-19 का कोई निश्चित इलाज नहीं मिल पाया है, इसलिए विटामिन और सप्लीमेंट्स ने हमारे घर की अलमारियों में अपना जगह बना ली है। दरअसल लोग ऐसी किसी भी चीज को छोड़ना नहीं चाहते, जो मौजूदा वक्त में उनकी इम्यूनिटी को मजबूत करने का वादा करती है। हालांकि हममें से बहुत से लोगों को इस बात का अंदाजा तक नहीं है कि हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली सिर्फ दवा या किसी प्रकार की गोली खाकर मजबूत नहीं होती है बल्कि इसे मजबूत बनाने के लिए और भी चीजें करने की आवश्यकता है।  

immunity

आखिर क्या है हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system)

इससे पहले कि आप अपनी इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए अलग-अलग सप्लीमेंट खरीदने के लिए बाजार में निकलें उससे पहले यह समझ लेना बहुत महत्वपूर्ण है कि प्रतिरक्षा प्रणाली एंटीबॉडी, कोशिकाओं, रसायनों और अंगों का एक जटिल नेटवर्क है, जो रोगजनकों को दूर करने और आपके शरीर को किसी भी प्रकार के संक्रमण से लड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह बाहरी आक्रमणकारियों की पहचान कर उन्हें सिस्टम से बाहर निकालने का काम करता है। चूंकि जिस तरह से हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली काम करती है वह बिल्कुल आसान नहीं होता है। इन सब कार्यों को करने के लिए इसे मजबूत और बूस्ट करने की जरूरत होती है, जो कि सिर्फ किसी प्रकार की गोली या सप्लीमेंट खाकर नहीं किया जा सकता है।  

आपका इम्यून सिस्टम आपके शरीर की पर्सनल आर्मी 

आप अपनी इम्यूनिटी को अपनी आर्मी मान सकते हैं, जो आपके रास्ते में आने वाले संक्रमणों से लड़ती है, लेकिन जरूरत पड़ने पर प्रदर्शन करने के लिए आपको इसे उचित प्रशिक्षण के लिए भी समय देना होगा। आप अपने सैनिकों को केवल एक रात पहले गोला-बारूद देकर लड़ाई जीतने की उम्मीद नहीं कर सकते। इसी प्रकार, आपको अपने रास्ते में आने वाले किसी भी रोगजनकों से निपटने के लिए इसे बनाए रखने के लिए अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है। हम ऐसे 3 तरीकों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें करने के बाद आपको गोली या सप्लीमेंट लेने के बजाए इम्यूनिटी को बढ़ाने में आसानी से मदद मिल सकती है।          

इसे भी पढ़ेंः आपकी मानसिक शक्ति को कमजोर कर रही खुद से कहीं जानें वाली ये 5 बातें, भूलकर भी खुद से न कहें ये 5 बातें

अपनी नींद को दुरुस्त करें           

यह सलाह आपने पहले भी कई बार सुनी होगी और ये कुछ ऐसा है, जिसे आप पहले भी सुनते आए हैं। वास्तव में अपनी इम्यूनिटी को बूस्ट करने का सबसे सही तरीका है सोने के तरीके में बदलाव, वर्कआउट करना और तनाव मुक्त जीवन शैली बिताना। इम्यूनिटी बूस्ट करने का सबसे पहला कदम यह सुनिश्चित करना है कि आपको हर रात 6 से 7 घंटे की नींद जरूर लेनी है और तरोताजा महसूस करना है। अगर आपका नींद चक्र बिगड़ गया है, तो वीकएंड पर सही स्लीप रूटीन का पालन करना सुनिश्चित करें और अपनी सर्कैडियन लय को सही करने के लिए हर दिन कम से कम 30 मिनट की सुबह की रोशनी जरूर लें। एक अध्ययन के अनुसार, अगर आप 1 दिन में  सिर्फ चार घंटे की नींद लेते हैं, तो आपके शरीर के नेचुरल किलर सेल (एनके) 70 प्रतिशत तक कम हो जाते हैं।

immune sysytm

तनाव कम करने के तरीके निकालें      

इस बात का ध्यान रखें कि हम आपको तनाव कम करने के तरीके के बारे में बता रहे हैं न कि इसे पूरी तरह से खत्म करने के? ऐसा इसलिए है क्योंकि हम जानते हैं कि हमारी बढ़ती व्यस्त जीवन शैली में तनाव को कम करना संभव नहीं है। हालांकि, हम सभी अपने जीवन में सही तरीके से तनाव और नकारात्मक स्थितियों से निपटने के लिए कई तरीके सीख सकते हैं। जिन लोगों को अधिक तनाव होता है या वे किसी न किसी चीज से जूझ रहे होते हैं तो उनका शरीर उस स्थिति से लड़ने के लिए कोर्टिसोल नाम के हार्मोन रिलीज करता है। बढ़ा हुआ तनाव इंफ्लेमेटरी गतिविधियों में वृद्धि करता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा नहीं है। नतीजतन, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली एक धड़कन का रूप ले लेती है और रोगजनकों से लड़ने की इसकी क्षमता कम हो जाती है। उन दिनों में जब आप वास्तव में तनावग्रस्त और अभिभूत होते हैं, तो आप वह सब कुछ लिखने की कोशिश कर सकते हैं जो कि बहुत ज्यादा जरूरी है और इसे तुरंत करने की आवश्यकता है। एक साथ सब कुछ करने की कोशिश न करें और अपने काम को उसी के अनुसार विभाजित करें। एक अन्य वैकल्पिक तरीका यह है कि अपने दिमाग को वर्तमान में लाया जाए, हर बार यह नकारात्मक विचारों और परिस्थितियों से भटकने लगता है, जो भविष्य में भी हो सकता है।               

इसे भी पढ़ेंः चिंता और तनाव से राहत दिलाता है Body Scan Meditation, जानें क्या है ये और इसके फायदे

अपने शरीर की जरूरत के आधार पर अपना वर्कआउट रूटीन चुनें        

ऐसा अक्सर नहीं होता है कि जब हम एक्सरसाइज की बात करते हैं तो हम कोई एकस्ट्रीम एप्रोच अपनाएं। हम या तो अपनी गतिहीन जीवन शैली को ही आगे बढ़ाते जाते हैं या लंबे समय तक अपनी कुर्सी पर ही बैठे रहते हैं। ये दोनों ही चीजें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली पर कहर बरपा सकती हैं। यही कारण है कि जब आपके वर्कआउट रूटीन की बात आती है तो संतुलन बनाना महत्वपूर्ण होता है और अपने शरीर की आवश्यकताओं को सुनने की आदत विकसित करें। उदाहरण के लिए, अगर आप विशेष रूप से अच्छी तरह से आराम कर रहे हैं और आपके अंदर ऊर्जा भरी हुई है तो आप अपने आप को सामान्य से थोड़ा अधिक कसरत करने के लिए पुश करें लेकिन अगर आप पहले से ही थका हुआ महसूस करते हैं, तो आपको कम प्रभाव वाले व्यायाम करने का विकल्प चुनना चाहिए। याद रखें, जब यह काम करने और अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने की बात आती है, तो यह निरंतरता और संतुलन के लिए नीचे आता है।            

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK