दिन में 25-30 ग्राम फाइबर का सेवन आपको हेल्दी और फिट रखने में कर सकता है मदद, इन चीजों का सेवन देगा आपको फाइबर

Updated at: Aug 11, 2020
दिन में 25-30 ग्राम फाइबर का सेवन आपको हेल्दी और फिट रखने में कर सकता है मदद, इन चीजों का सेवन देगा आपको फाइबर

एक शोध के मुताबिक, अगर दिन में 25 से 30 ग्राम फाइबर का सेवन किया जाए तो कई समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है और हेल्दी रह सकते हैं। 

 

Jitendra Gupta
लेटेस्टWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Aug 11, 2020

जब भी बात स्वास्थ्य की आती है, तो लोग अक्सर अपने रोजाना के विटामिन और मिनरल इनटेक की चिंता करने लगते हैं। लेकिन जब भी आप किसी पाचन संबंधी समस्या का शिकार होते हैं तो निश्चित ही इन चीजों को छोड़कर अपने द्वारा सेवन की जा रही फाइबर की मात्रा के बारे में चिंतित होते हैं। अक्सर होता यूं है कि जो चीज हमें महसूस नहीं होती है, वह यह है कि फाइबर खाना उतना ही जरूरी है जितना कि अन्य पोषक तत्व। लेकिन हम ऐसा कर नहीं पाते। अगर सामान्य शब्दों में कहें तो फाइबर प्लांट बेस्ड खाद्य पदार्थों में स्वाभाविक रूप से पाया जाने वाला एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट है जिसे हमारा शरीर पचा या अवशोषित नहीं कर सकता है। 

fibre

डायटरी फाइबर, जिसे रूघेज (roughage)के रूप में भी जाना जाता है, मानव उपभोग के लिए सबसे अच्छा होता है। ये तत्व आमतौर पर फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और फलियों में पाया जाता है और डायटरी फाइबर कब्ज को रोकने और राहत प्रदान करने में काफी मदद करता है। इसके अलावा, फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ भी स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद कर सकते हैं, जिससे आपको डायबिटीज, हृदय रोग और कुछ प्रकार के कैंसर का खतरा कम हो सकता है।

कितना होना चाहिए फाइबर का सेवन

जर्नल लांसेट में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन 25-29 ग्राम फाइबर का सेवन करना चाहिए। ये अध्ययन विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा नियुक्त एक आयोग द्वारा किया गया था, जिसका उद्देश्य डायटरी फाइबर की खपत के लिए नए दिशानिर्देश तैयार करना था। अध्ययन में यह भी पता चला है कि कौन से कार्ब्स गैर-संचारी रोगों के खिलाफ सबसे अधिक रक्षा करते हैं और व्यक्ति को स्वस्थ वजन का प्रबंधन करने में मदद करते हैं।

इसे भी पढ़ेंः अचानक खड़े होते हुए चक्‍कर महसूस करना हो सकता है डिमेंशिया की ओर इशारा

क्या कहता है अध्ययन 

अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने 185 ओब्जर्वेश्नल संबंधी अध्ययनों के आंकड़ों की जांच की। इन अध्ययन का विश्लेषण करने में शोधकर्ताओं को 40 साल से अधिक का समय लगा। अध्ययन में यह पाया गया कि जिन लोगों ने अधिक फाइबर का सेवन किया है, वे कम से कम फाइबर खाने वालों की तुलना में समय से पहले 15-30 प्रतिशत कम मरते हैं।

fibre intake

फाइबर युक्त भोजन खाने से हृदय रोग, स्ट्रोक, टाइप 2 डायबिटीज, और पेट के कैंसर के खतरे को 16–24 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। इसलिए स्वस्थ रहने और लंबे समय तक हेल्दी रहने के लिए अपने आहार में मटर, सेम, मसूर और छोले जैसे साबुत अनाज, सब्जियां, फल और दालें शामिल करें।

इसे भी पढ़ेंः विज्ञान ने भी माना अनहेल्दी नहीं है भटूरे और नान खाना, सेहत को मिलते हैं इसके कई फायदे

विभिन्न प्रकार के फाइबर

फाइबर दो प्रकार के होते हैं, दोनों ही आपको स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

अघुलनशील फाइबर (Insoluble fiber): अघुलनशील फाइबर पानी में नहीं घुलता है और कब्ज को रोकने के लिए मल को भारी बनाने का काम करता है। 

घुलनशील फाइबर (Soluble fiber): घुलनशील फाइबर पानी को अवशोषित करता है और पाचन तंत्र में एक जेल जैसा पदार्थ बनाता है। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और शरीर में ब्लड शुगर के स्तर को विनियमित करने में मदद कर सकता है।

फाइबर खाने से शरीर को होने वाले फायदे

रोजाना फाइबर खाने के कई फायदे हैं। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

डायटरी फाइबर हृदय संबंधी समस्याओं को रोकता है और ब्लड प्रेशर को कम रखने में मदद करता है।

फाइबर आंत को स्वस्थ रखने में मदद करता है। फाइबर खाने से चिकने मल त्याग की अनुमति मिलती है।

फाइबर शरीर द्वारा चीनी के अवशोषण की प्रक्रिया को कम कर सकता है, भोजन के बाद ब्लड शुगर की वृद्धि को रोकने में मदद करता है।

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK