• shareIcon

हार्ट फेल्योर की सम्भावित अवधि

Updated at: Jun 04, 2013
हृदय स्‍वास्‍थ्‍य
Written by: Rahul SharmaPublished at: May 09, 2013
हार्ट फेल्योर की सम्भावित अवधि

हार्ट फेल्योर का इलाज कितने समय में होगा, यह पूरी तरह मरीज के रोग की अवस्था पर निर्भर करता है। आइए इसके बारे में विस्तार से जानें।

हार्ट फेल्योर एक जीवन भर रहने वाला विकार है। हालांकि यदि इसके जोखिम कारण निदान योग्य हों तो हार्ट फेल्योर का इलाज करना संभव होता है।

heart failure ki sambhvit avdhiहार्ट फेल्योर एक ऐसा प्रगतिशील विकार है जिसमे हृदय को कुछ कारणों से नुकसान पहुंचता है। और परिणाम स्‍वरूप हृदय प्रणाली कमजोर होने लगती है। यह समस्या अंतर्निहित दिल की चोटों और शरीर का ह्रदय के प्रति नकारात्मक व्यवहार हो जाने के कारण होती है।

[इसे भी पढ़ें: आठ उपाय जो दिल की बीमारियों से बचाएं]


हार्ट फेल्योर को इलाज कितने समय मे हो जाएगा, यह पूरी तरह मरीज के रोग की अवस्था पर निर्भर करता है। यदि हार्ट फेल्योर के लक्षणों को प्रांरभिक अवस्था में ही पहचान लिया गया है और उसका इलाज शुरू कर जिया गया है तो हो सकता है कि मरीज की स्थिति जल्दी बेहतर हो जाए। रोगी का अत्मविश्वास और दवाओं, खान-पान तथा जीवन शैली के प्रति नियमितता और जागरुकता हार्ट फेल्योर के निदान मे जबरदस्त सकारात्मक भूमिका निभाते हैं।


हार्ट फेल्योर के निदान में कई चरण होते हैं। जिनमे मरीज की बिमारी के हिसाब से समय लग सकता है।

[इसे भी पढ़ें: हृदय रोग का इलाज कैसे करें]

 

हार्ट फेल्योर होने की स्थिति में डॉक्टर इसके होने के पीछे के कारणों पर भी गौर करते हैं। कोरोनरी आर्टरी रोग के कारण हार्ट फेल होने पर कुछ अतिरिक्त दवाओं, एंजियोप्लास्टी या सर्जरी की आवश्यकता पड़ सकती है। अगर यह हृदय के वॉल्व के ठीक से काम नहीं कर पाने के कारण हो, तो डॉक्टर आपको इनके सर्जिकल रिपेयर या इन्हें बदलवाने की सलाह दे सकते हैं।


हार्ट फेल्योर के कुछ रोगियों में वजन घटाने और अल्कोहल का सेवन पूरी तरह छोड़ने से आश्चर्यजनक रूप से लाभ होता है। डॉक्टर आपको बताएगें कि हार्ट फेल्योर होने के बाद कितना श्रम या व्यायाम उपयुक्त होता है और आपकी शारीरिक स्थिति के अनुसार आपको कितने व्यायाम की आवश्क्ता है। हार्ट फेल होने की अधिक एडवांस्ड अवस्था में शारीरिक श्रम और आराम के बीच संतुलन होना महत्वपूर्ण है।
 
सामान्यतः यह एक आजीवन रहने वाली परिस्थिति है। हालांकि अगर इसके कारण का निदान संभव हो, तो हार्ट फेल्योर ठीक किया जा सकता है।

 

Read More Articles On Heart Health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK