• shareIcon

हड्डियों में छिपा है उम्र का राज

अन्य़ बीमारियां By अन्‍य , दैनिक जागरण / Jun 29, 2010
हड्डियों में छिपा है उम्र का राज

उम्र का बढ़ना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। इसे रोक पाना तो नामुमकिन है, लेकिन इस प्रक्रिया के बारे में काफी कुछ अंदाज लगाया जा सकता है। और वह भी हड्डियों के जरिए। एक शोध में ऐसा ही कहा गया है।

उम्र का बढ़ना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। इसे रोक पाना तो नामुमकिन है, लेकिन इस प्रक्रिया के बारे में काफी कुछ अंदाज लगाया जा सकता है। और वह भी हड्डियों के जरिए। एक शोध में ऐसा ही कहा गया है।
तेल अवीव यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक शारीरिक तौर पर उम्र बढ़ने की प्रक्रिया आनुवांशिक गुणों पर आधारित होती है। इन गुणों का अध्ययन कर व्यक्ति की उम्र संबंधी कई भविष्यवाणियां की जा सकती हैं। यहां तक कि उसके जीवनकाल का अंदाज भी लगाया जा सकता है।
उम्र बढ़ने की स्वाभाविक प्रक्रिया के लिए जिम्मेदार आनुवांशिक प्रभावों का अध्ययन कर वैज्ञानिकों ने एक जैविक सूचक का भी निर्माण किया है। इन सूचकों में भूरे बाल, झुर्रियां या त्वचा का लचीलापन प्रमुख हैं। इन सूचकों का अध्ययन कर किसी व्यक्ति के बारे में यह अंदाज लगाया जा सकता है कि वह कितने दिन जिंदा रह सकता है। प्रमुख शोधकर्ता लियोनिड कैलिचमैन के अनुसार इस सूचक का प्रयोग किसी व्यक्ति के अंगों के ठीक ढंग से काम करने और जीवन के विस्तार के बारे में जानने के लिए किया जा सकेगा।

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।