बारिश का अमीबियासिस रोग

    बारिश का अमीबियासिस रोग

    बारिश का अमीबियासिस रोग: अमीबियासिस जलजनित रोग है। संक्रामक जल लेने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में यह आसानी से पहुंच जाता है।

    बारिश का अमीबियासिस रोग  अमीबियासिस जलजनित रोग है। संक्रामक जल लेने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में यह आसानी से पहुंच जाता है।

    * प्रोटोजोन, एंट-अमीबा हिस्टोलाइटिका, बड़ी आँत को अपना घर बनाता है।

    लक्षण

    पतले दस्त

    भोजन पश्चात दस्त पेट में दर्द

    जो रुक-रुक कर हो

    कब्ज एवं दस्त बारी-बारी से हों

    अपच वायु-विकार हो।

     

    कैसे होता है अमीबियासिस

    * भोजन निर्माण एवं संग्रहण से संबंधित समस्त तत्व शुद्धता तथा कीट से बचाव पर केंद्रित होते हैं। विशेष रूप से होटल, ठेले आदि पर अशुद्ध पानी से बने चटखारेदार खाद्य पदार्थ, वेटर द्वारा नाखून, सिर एवं शरीर के अन्य खुले भाग का ध्यान नहीं रखे जाने के कारण अमीबियासिस काजीवाणु एक से दूसरे तक पहुँचता है।

    * यह एक कोशीय जीवाणु बड़ी आँत के अतिरिक्त लीवर, फेफड़ों, हृदय, मस्तिष्क, वृक्क, अंडकोष, अंडाशय, त्वचा आदि तक में पाया जा सकता है।

    उपचार : चिकित्सक की सलाह से दवाएँ लें। दूषित जल के संपर्क से त्वचा संबंधी रोग भी हो जाते हैं। जहाँ तक संभव हो सड़क पर बहते पानी में नंगे पाँव निकलने की कोशिश न करें। पेयजल में क्लोरिवेट दवा डालें।

     

    Read More Articles on Communicable Diseases in Hindi

     
    Disclaimer:

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।