• shareIcon

डिप्रेस लोगों में अंतरंगता के मुद्दे

सभी By Nachiketa Sharma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Mar 05, 2013
डिप्रेस लोगों में अंतरंगता के मुद्दे

डिप्रेस लोगों में अंतरंगता के मुद्दे: डिप्रेस लोगों में नजदीकी बढ़ाने के कुछ आसान टिप्स। पढ़ें तनाव में रहने पर सेक्सलाइफ को कैसे खुशहाल बनाएं।

Depress logo me antarangta ke muddeमानसिक तनाव का असर हमारे जीवन को बुरी तरह प्रभावित करता है। तनावग्रस्तव व्याक्ति का निजी, व्यवसायिक और सेक्स लाइफ का पूरा आनंद नहीं उठा पाता। अच्छी सेक्स लाइफ के लिए तनाव मुक्त रहना बेहद जरूरी है। दोनों बातें एक साथ नहीं हो सकतीं। डिप्रेशन या अवसाद का शिकार व्याक्ति कब हो जाता है रोगी को खुद पता नहीं होता है। दिमागी तनाव डिप्रेशन का प्रमुख कारण होता है। इसका सबसे ज्यादा असर सेक्स लाइफ पर पड़ता है।

डिप्रेस लोगों में अपने साथी के साथ अंतंरग होने में काफी परेशानी होती है। ऐसे में व्यक्ति अक्सर अंतरंगता के मुद्दों से बचने की कोशिश करता है। लेकिन आप यह भूल जाते हैं कि इसका नकारात्मक प्रभाव आपकी सेक्स लाइफ पर पड़ता है।  आप चाहें तो सेक्स के जरिए अपने तनाव को कम करने की कोशिश कर सकते हैं। यह वाकई एक कारगर नुस्खा माना जाता है।

 

 

 
डिप्रेशन और अंतरंगता के मुद्दे -

  • यौन क्रियाओं का सीधा संबंध मानसिक स्थिति से होता है। गाजियाबाद स्थित आदिनाथ अस्पंताल के वरिष्ठ सेक्सोलॉजिस्ट डॉक्टर डी.के. जैन का भी कहना है कि सेक्सस से जुड़ी 80 फीसदी परेशानियां मानसिक होती हैं।
  • सेक्स की इच्छा  सबसे पहले दिमाग में शुरू होती है बाद में दिमाग से निकले रसायन यौनेच्छा को उकसाते हैं। लेकिन जब व्यक्ति अवसाद ग्रस्त होता है तब सेक्स की इच्छा को उकसाने वाले केमिकल में असंतुलन पैदा हो जाता है, जिसकी वजह से सेक्स और उससे संबंधित क्रियाओं की इच्छा नहीं होती।
  • डिप्रेशन ग्रस्त लोग अपनी भावनाओं को अपने पार्टनर के सामने सही ढ़ंग से व्यक्त नहीं कर पाते, जिसकी वजह से बातों को समझने में दिक्कत होती है। अक्सर डिप्रेशन में इनसान अपनी बात कहने में संकोच महसूस करता है। डिप्रेशन में आदमी सही बात कह नहीं पाता जिसकी वजह से गलफहमी होती हैं और कई समस्याएं होती हैं।
  • डिप्रेशन से ग्रस्त लोगों में अक्सर नकारात्मक विचार पैदा होते हैं। डिप्रेशन में सेक्स के दौरान शरीर उत्साह नहीं रहता। इसकी वजह से सेक्स की इच्छा समाप्त होती है और पार्टनर के बीच गलतफहमी ज्यादा बढती है।

 

  • डिप्रेशन के दौरान सेक्स के वक्त पार्टनर संतुष्ट नहीं हो पाता, जिसके कारण दूरियां बढने लगती हैं। कई महिलाएं सेक्सुअली बहुत स्ट्रॉंग होती हैं यानी उनकी अंतरंगता क्षमता बहुत अधिक होती है, लेकिन डिप्रेशन में सेक्स के दौरान वह अपने साथी से संतुष्ट नहीं हो पातीं, जिसके कारण भी अवसाद या तनाव होता है।
  • डिप्रेशन के दौरान सेक्स की जरूरतें पूरी न हो पाने की वजह से रिश्तों में दरार पडने लगती है। डिप्रेशन में साथी एक-दूसरे की भावनाओं को समझ नहीं पाते जिसकी वजह से आत्मविश्वास खोता है।
  • डिप्रेस्ड लोग अपने पार्टनर से सब बातें शेयर नहीं कर पाते ।  इसकी वजह से दोनों के बीच एक दूरी भी आ जाती है।
  • भागदौड की जिंदगी में काम का बोझ और घरेलू परेशानियां डिप्रेशन का प्रमुख कारण होती  हैं, जिनका असर आदमी की सेक्स लाइफ पर पड़ता है। तनाव ग्रस्त आदमी अक्सर गुस्से में रहता है। इसलिए सुखी जीवन जीने के लिए डिप्रेशन से दूर रहना चाहिए।

 

इलाज

तमाम शोधों से भी इस बात की पुष्टि होती है कि तनाव का नकारात्मक प्रभाव सेक्सुअल लाइफ पर भी पड़ता है। ऐसे में आपको चाहिए कि आप तनाव को नजरअंदाज करने के बजाय तनाव को सुलझाने की कोशिश करें। अपने पार्टनर से खुलकर अपनी बातें कहें और मिलकर इसका हल निकालें। आप चाहें तो किसी डॉक्टर या काउंसलर की मदद भी ले सकते हैं।

 

Read More Articles on Intimacy in Relationship in Hindi.

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK