गोभी खाने से रुक सकता है विकास

Updated at: Apr 22, 2014
गोभी खाने से रुक सकता है विकास

फूल गोभी व बंध गोभी का सेवन करने वाले सावधान हो जाएं। क्योंकि लगातार इसके सेवन से मस्तिष्क का विकास रुक सकता है। गोभी में थायोसायनेट होता है, जिससे शरीर में आयोडीन की मात्रा घट जाती है और शारीरिक व मानसिक विकास भी प्रभावित हो सकता है।

 अन्‍य
स्वस्थ आहारWritten by: अन्‍य Published at: Mar 06, 2012

Images of a Cauliflower फूल गोभी व बंध गोभी का सेवन करने वाले सावधान हो जाएं। क्योंकि लगातार इसके सेवन से मस्तिष्क का विकास रुक सकता है। शरीर में आयोडीन की मात्रा घट जाती है, जिससे शारीरिक व मानसिक विकास प्रभावित होता है।


यह खुलासा आयोडीन न्यूट्रीशनल स्टेटस आफ एडोलेसेन्ट्स विषय पर पूर्णिया कालेज के प्राचार्य डा. टीवीआरके राव व महिला कालेज पूर्णिया की प्राध्यापिका डा. तुहिना विजय द्वारा किये गए शोध में हुआ है। यह शोध आल इंडिया इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइंस [एम्स] के द इंडियन जोनल आफ पीडियेट्रीक्स, नई दिल्ली में भी प्रकाशन हो चुका है।


शोध के संबंध में डा. राव ने बताया कि फूल गोभी व बंद गोभी के अलावा मूली, शकरकंद, बांस के कोपल, सरसों, सेम व शलगम में थायोसायनेट पाया जाता है। इन भोज्य पदार्थो को ग्वायट्रोजेनिक फूड भी कहा जाता है।


राव ने कहा कि इनमें थायोसायनेट होने के कारण यह शरीर में आयोडीन के अवशोषण को रोकता है, जबकि आयोडीन की जरुरत शरीर के सभी कोशिकाओं को होती है। ऐसे में अगर लगातार कई महीनों तक दूसरी हरी सब्जियों का सेवन न कर केवल इन्हीं सब्जियों का सेवन किया जाता है तो शरीर को आयोडीन न मिलकर थायोसायनेट ही मिलता रहता है, जो शरीर के लिए हानिकारक होता है।



हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि थायोसायनेट युक्त सब्जियों के सेवन में आयोडीन युक्त नमक का उपयोग करना चाहिए।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK