गर्भावस्‍था के बाद चौथे और पांचवें महीने होती हैं दांतों की समस्‍या

Updated at: Oct 28, 2013
गर्भावस्‍था के बाद चौथे और पांचवें महीने होती हैं दांतों की समस्‍या

प्रेग्नेंसी के दौरान दांतों और मसूड़ों को अतिरिक्त सुरक्षा की आवश्यकता होती है। ज्‍यादा जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

 जया शुक्‍ला
गर्भावस्‍था Written by: जया शुक्‍ला Published at: Apr 20, 2011

garbhavastha aur daatoki samasya

आपके लिए यह‍ समय शायद किसी सुनहरे सपने से कम ना हो। आप जहां भी जा रही हैं, सभी आपका खास ख्याहल रख रहे हैं। लेकिन ध्यान रखें, यह समय स्वयं की देखभाल का भी है। प्रेग्नेंसी के दौरान कई अन्य जांचों के साथ ही दांतों की भी विशेष जांच आवश्यक है।

गर्भावस्था के दौरान दांतों को अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है। ऐसे में दांतों की सफाई से लेकर चिकित्सक से मिलना तक आवश्य‍क हो जाता है। कुछ सामान्य सवाल जो आप खुद से करती होंगी:


गर्भावस्‍था और दांतों की देखभाल

डेंटिस्ट से मिलें

डेंटिस्ट से मिलने का सही समय है, गर्भावस्था का चौथा या पांचवा महीना क्योंकि पहले तीन महीने में किसी प्रकार की जांच जोखिम भरी हो सकती है। इसके अलावा आ समय-समय पर अपने दांतों के बारे में चिकित्‍सक से सलाह अवश्‍य लें।

 

 

दांतों की समस्यायें

गर्भावस्था के दौरान दांतों और मसूड़ों को अतिरिक्त सुरक्षा की आवश्यकता होती है इसलिए महीने में एक बार डेंटिस्ट से ज़रूर मिलें। ब्रशिंग, फ्लासिंग के साथ ही संतुलित आहार का सेवन भी करें।

 

कुछ सामान्य समस्याएं

गर्भावस्था के दौरान होने वाली सामान्य समस्याएं है ड्राई माउथ, जिंजिवाइटिस और पेरियोडांटल बीमारी। ये समस्‍या इस दौरान कभी भी हो सकती हैं। इनसे घबरायें नहीं, ये ज्‍यादा गंभीर समस्‍या नहीं हैं।

 

दांतों में सड़न हो तो

अगर आपके दांतों में सड़न है, तो आप इनका उपचार करा सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान दांतों का एक्स -रे ना करायें क्योंकि एक्स-रे से आपके होने वाले बच्चे पर किरणों का प्रभाव पड़ सकता है। ब्रशिंग, फ्लासिंग के साथ ही संतुलित आहार का सेवन भी करें और स्‍वस्‍थ दांतों के साथ सुंदर मुस्‍कान पायें।

 

 

 

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK